VIDEO: पांवटा प्रशासन की अनदेखी का शिकार हो चला है यह ऐतिहासिक मंदिर

नाहनJune 17, 2019, 8:04 PM IST

हिमाचल-उत्तराखंड के प्रवेश द्वार पांवटा साहिब मे का 'श्री रघुनाथ मंदिर' जो देईजी साहिबा मंदिर के नाम से प्रसिद्ध है. यह मंदिर अपने साथ लगभग 130 वर्षों पुराना इतिहास संजोए हुए है. यमुना नदी के तट पर बने इस मंदिर का निर्माण 21 फरवरी 1889 ईस्वी को सिरमौर रियासत काल में रानी साहिबा कांगडा श्री देईजी साहिबा ने अपने भाई महाराजा शमशेर प्रकाश बहादुर की मदद से अपने पति व लम्बागांव (कांगडा) के राजा प्रताप चन्द बहादुर की याद में करवाया था. जिला उद्योग विभाग की टीम ने इस मंदिर की खाली जमीन में सुंदर पार्क तैयार करने का जिम्मा लिया था, जिसे तैयार करने की डेड लाइन 31 मार्च थी. लेकिन आज तक पार्क व मंदिर के मुख्य द्वार का काम आगे नहीं बढ़ पाया है.

Rajesh Kumar

हिमाचल-उत्तराखंड के प्रवेश द्वार पांवटा साहिब मे का 'श्री रघुनाथ मंदिर' जो देईजी साहिबा मंदिर के नाम से प्रसिद्ध है. यह मंदिर अपने साथ लगभग 130 वर्षों पुराना इतिहास संजोए हुए है. यमुना नदी के तट पर बने इस मंदिर का निर्माण 21 फरवरी 1889 ईस्वी को सिरमौर रियासत काल में रानी साहिबा कांगडा श्री देईजी साहिबा ने अपने भाई महाराजा शमशेर प्रकाश बहादुर की मदद से अपने पति व लम्बागांव (कांगडा) के राजा प्रताप चन्द बहादुर की याद में करवाया था. जिला उद्योग विभाग की टीम ने इस मंदिर की खाली जमीन में सुंदर पार्क तैयार करने का जिम्मा लिया था, जिसे तैयार करने की डेड लाइन 31 मार्च थी. लेकिन आज तक पार्क व मंदिर के मुख्य द्वार का काम आगे नहीं बढ़ पाया है.

Latest Live TV