लाइव टीवी
होम » वीडियो » झारखंड

VIDEO : पुनर्वास राशि वितरित कार्यक्रम की सराहना की SC के जस्टिस अरुण मिश्रा ने

झारखंड News18 Jharkhand| November 24, 2018, 2:49 PM IST

सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा जिला विधिक सेवा प्राधिकार के कार्यक्रम में शिरकत करने शनिवार को देवघर पहुंचे. झारखंड उच्च न्यायालय के न्यायाधीश डीएन पटेल और न्यायाधीश हरिश्चन्द्र मिश्रा भी उनके साथ रहे. देवघर के सिविल कोर्ट परिसर स्थित न्याय सदन में जिला विधिक सेवा प्राधिकार द्वारा आयोजित कार्यक्रम में शिरकत करते हुए सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश अरुण मिश्रा की मौजूदगी में विभिन्न मामलों के पीड़ितों के बीच पुनर्वास राशि वितरित की गई. इस अवसर पर झारखंड उच्च न्यायालय के न्यायाधीश डीएनपटेल और न्यायाधीश हरिश्चन्द्र मिश्रा ने इसे सराहनीय कदम बताया. बाद में पत्रकारों द्वारा पूछे गए एक सवाल पर न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा ने भी कहा कि राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकार द्वारा सराहनीय कार्य किया जा रहा है, इससे न्यायिक प्रक्रिया में भी तेज़ी आई है. इस अवसर पर देवघर के जिला एवं सत्र न्यायाधीश, अन्य न्यायिक पदाधिकारी सहित बड़ी संख्या में अधिवक्ता मौजूद थे. न्यायधीशों के कहने का मकसद था कि ऐसे कार्यक्रमों से वास्तविक पीड़ितों को मदद मिलती है.

Rituraj Sinha
First published: November 24, 2018, 2:49 PM IST

सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा जिला विधिक सेवा प्राधिकार के कार्यक्रम में शिरकत करने शनिवार को देवघर पहुंचे. झारखंड उच्च न्यायालय के न्यायाधीश डीएन पटेल और न्यायाधीश हरिश्चन्द्र मिश्रा भी उनके साथ रहे. देवघर के सिविल कोर्ट परिसर स्थित न्याय सदन में जिला विधिक सेवा प्राधिकार द्वारा आयोजित कार्यक्रम में शिरकत करते हुए सर्वोच्च न्यायालय के न्यायाधीश अरुण मिश्रा की मौजूदगी में विभिन्न मामलों के पीड़ितों के बीच पुनर्वास राशि वितरित की गई. इस अवसर पर झारखंड उच्च न्यायालय के न्यायाधीश डीएनपटेल और न्यायाधीश हरिश्चन्द्र मिश्रा ने इसे सराहनीय कदम बताया. बाद में पत्रकारों द्वारा पूछे गए एक सवाल पर न्यायमूर्ति अरुण मिश्रा ने भी कहा कि राष्ट्रीय विधिक सेवा प्राधिकार द्वारा सराहनीय कार्य किया जा रहा है, इससे न्यायिक प्रक्रिया में भी तेज़ी आई है. इस अवसर पर देवघर के जिला एवं सत्र न्यायाधीश, अन्य न्यायिक पदाधिकारी सहित बड़ी संख्या में अधिवक्ता मौजूद थे. न्यायधीशों के कहने का मकसद था कि ऐसे कार्यक्रमों से वास्तविक पीड़ितों को मदद मिलती है.

Latest Live TV