होम » वीडियो » झारखंड

VIDEO : अनाथ बच्चियों को नए वस्त्र और मिठाई देकर मनाया दुर्गा पूजा का पर्व

गुमला News18 Jharkhand| October 18, 2018, 9:32 PM IST

गुमला के एक समाजसेवी ने अपने पूरे परिवार के साथ अनाथ बच्चियों को दुर्गा पूजा के अवसर पर नये कपड़ों के साथ ही मिठाई का वितरण कर उनके फीके उत्सव को रंगीन बना दिया.आमतौर पर दुर्गा पूजा के दौरान लोग अपने घर में परिवार के बीच रहकर खुशी बनाते हैं लेकिन कुछ लोग इन सब से अलग अपने इन पावन पर्व को उन लोगों के बीच जाकर मनाते है जिनका कोई नहीं होता है. कुछ ऐसा ही गुमला के राजेश अग्रवाल ने किया. वे अपनी पत्नी व बच्चों के साथ जिला मुख्यालय में समाज कल्याण विभाग द्वारा संचालित अनाथालय में गए. उन्होंने वहां रहने वाली बच्चियों को अपनी ओर से नये कपड़े व मिठाईयों का वितरण किया. इस दौरान उनकी पत्नी व बच्चे भी इन अनाथ बच्चियों के बीच आकर काफी उत्साहित थे. राजेश अग्रवाल की पत्नी ने कहा की नवरात्र का सफल समापन नव कुंआरी कन्याओं को खिलाकर व उनकी पुजा कर सम्पन्न होता है. लेकिन उन्हे सौभाग्य से कई देवी स्वरुप बच्चियों की सेवा का अवसर मिला. वहीं राजेश का कहना है कि ऐसी बच्चियों- बच्चों की सेवा के लिए अन्य लोगों को सामने आना चाहिए. यहां की बच्चियों का भी कहना है कि जब ऐसे लोग यहां आते हैं तो उनमें उन सबको अपने माता-पिता की झलक नजर आती है.

Sushil Kumar Singh
First published: October 18, 2018, 9:32 PM IST

गुमला के एक समाजसेवी ने अपने पूरे परिवार के साथ अनाथ बच्चियों को दुर्गा पूजा के अवसर पर नये कपड़ों के साथ ही मिठाई का वितरण कर उनके फीके उत्सव को रंगीन बना दिया.आमतौर पर दुर्गा पूजा के दौरान लोग अपने घर में परिवार के बीच रहकर खुशी बनाते हैं लेकिन कुछ लोग इन सब से अलग अपने इन पावन पर्व को उन लोगों के बीच जाकर मनाते है जिनका कोई नहीं होता है. कुछ ऐसा ही गुमला के राजेश अग्रवाल ने किया. वे अपनी पत्नी व बच्चों के साथ जिला मुख्यालय में समाज कल्याण विभाग द्वारा संचालित अनाथालय में गए. उन्होंने वहां रहने वाली बच्चियों को अपनी ओर से नये कपड़े व मिठाईयों का वितरण किया. इस दौरान उनकी पत्नी व बच्चे भी इन अनाथ बच्चियों के बीच आकर काफी उत्साहित थे. राजेश अग्रवाल की पत्नी ने कहा की नवरात्र का सफल समापन नव कुंआरी कन्याओं को खिलाकर व उनकी पुजा कर सम्पन्न होता है. लेकिन उन्हे सौभाग्य से कई देवी स्वरुप बच्चियों की सेवा का अवसर मिला. वहीं राजेश का कहना है कि ऐसी बच्चियों- बच्चों की सेवा के लिए अन्य लोगों को सामने आना चाहिए. यहां की बच्चियों का भी कहना है कि जब ऐसे लोग यहां आते हैं तो उनमें उन सबको अपने माता-पिता की झलक नजर आती है.

Latest Live TV