होम » वीडियो » झारखंड

VIDEO : महानवमी का महाभोगः हिनू में बांग्ला दुर्गा पूजा की 106 साल पुरानी परंपरा

झारखंड News18 Jharkhand| October 18, 2018, 9:20 PM IST

हिनू में बांग्ला दुर्गा पूजा की 106 साल पुरानी परम्परा है. समय के साथ बहुत बदलाव आए लेकिन बदलाव नहीं आया तो यहां के पूजा के तौर तरीकों रीति रिवाजों में. महाभोग लगाने में यहां पूरी तरह से बांगला रीति रिवाज से मां दुर्गा की उपासना की जाती है. प्रतिमा से लेकर पुजा के विधान तक में बंगाल की छाप नजर आती है. खास कर महाभोग की बात करें तो यहां कई तरह के पकवान बना कर मां को महाभोग लगाया जाता है. पूजा समिति से जुड़े पदाधिकारियों की माने तो इस महाभोग को लेकर खास इंतजाम किए जाते हैं. मां दुर्गा की पारपंरिक पूजा पद्धित , अनूठा महाभोग श्रद्धालुओं को अपनी ओर खींचता है. यही वजह है कि लम्बी लाईन लगा कर भी लोग महाभोग के इस प्रसाद को पाने के लिए लालायित रहते हैं.श्रद्धालुओं की माने तो महाभोग के प्रसाद का अनुठा स्वाद होता है जिसे आप घर में बना कर नहीं पा सकते. वहीं पूजा समिति द्वारा प्रसाद वितरण को लेकर बनाये गए सिस्टम की भी लोग दिन खोल कर तारीफ करते हैं. कई लोग तो ऐसे है जो सिर्फ पूजा में शामिल होने के लिए दूसरे शहरों से रांची आते है ताकि वे महाभोग का प्रसाद पा सकें. यहां सप्तमी से हर रोज मां को महाभोग लगाया जाता है जिसमें करीब तीस क्विंटल अनाज की खपत होती है और लगभग पांच हजार से ज्यादा लोग प्रसाद ग्रहण करते हैं.

Manoj Kumar
First published: October 18, 2018, 9:16 PM IST

हिनू में बांग्ला दुर्गा पूजा की 106 साल पुरानी परम्परा है. समय के साथ बहुत बदलाव आए लेकिन बदलाव नहीं आया तो यहां के पूजा के तौर तरीकों रीति रिवाजों में. महाभोग लगाने में यहां पूरी तरह से बांगला रीति रिवाज से मां दुर्गा की उपासना की जाती है. प्रतिमा से लेकर पुजा के विधान तक में बंगाल की छाप नजर आती है. खास कर महाभोग की बात करें तो यहां कई तरह के पकवान बना कर मां को महाभोग लगाया जाता है. पूजा समिति से जुड़े पदाधिकारियों की माने तो इस महाभोग को लेकर खास इंतजाम किए जाते हैं. मां दुर्गा की पारपंरिक पूजा पद्धित , अनूठा महाभोग श्रद्धालुओं को अपनी ओर खींचता है. यही वजह है कि लम्बी लाईन लगा कर भी लोग महाभोग के इस प्रसाद को पाने के लिए लालायित रहते हैं.श्रद्धालुओं की माने तो महाभोग के प्रसाद का अनुठा स्वाद होता है जिसे आप घर में बना कर नहीं पा सकते. वहीं पूजा समिति द्वारा प्रसाद वितरण को लेकर बनाये गए सिस्टम की भी लोग दिन खोल कर तारीफ करते हैं. कई लोग तो ऐसे है जो सिर्फ पूजा में शामिल होने के लिए दूसरे शहरों से रांची आते है ताकि वे महाभोग का प्रसाद पा सकें. यहां सप्तमी से हर रोज मां को महाभोग लगाया जाता है जिसमें करीब तीस क्विंटल अनाज की खपत होती है और लगभग पांच हजार से ज्यादा लोग प्रसाद ग्रहण करते हैं.

Latest Live TV