बचपन की Bullying से कैसे उबरें

नॉलेजFebruary 20, 2019, 7:25 PM IST

दादागिरी, धौंस, बेइज्जती, आलोचना, ये सारी वो चीजे हैं जिन्हें झेलने के बाद किसी में भी आत्मविश्वास में कमी आ जाए. उसके भीतर डर बैठ जाए. इसी को अंग्रेजी में Bullying कहा जाता है. बुलींग का शिकार होना उम्र के हर मोड़ पर खतरनाक होता है, सबसे खतरनाक होता है बचपन में इसका शिकार होना. अकसर बच्चे स्कूल या प्लेग्राउंड में बुलींग झेलते हैं. वे पेरेंट्स को भी नहीं बताते. लेकिन बड़े/मैच्योर होने पर इससे उबरा जा सकता है. आइए जानते हैं कैसे.

news18 hindi

दादागिरी, धौंस, बेइज्जती, आलोचना, ये सारी वो चीजे हैं जिन्हें झेलने के बाद किसी में भी आत्मविश्वास में कमी आ जाए. उसके भीतर डर बैठ जाए. इसी को अंग्रेजी में Bullying कहा जाता है. बुलींग का शिकार होना उम्र के हर मोड़ पर खतरनाक होता है, सबसे खतरनाक होता है बचपन में इसका शिकार होना. अकसर बच्चे स्कूल या प्लेग्राउंड में बुलींग झेलते हैं. वे पेरेंट्स को भी नहीं बताते. लेकिन बड़े/मैच्योर होने पर इससे उबरा जा सकता है. आइए जानते हैं कैसे.

Latest Live TV