PODCAST: माया-मुलायम के एक साथ रैली करने के मायने

उत्तर प्रदेश05:58 PM IST Apr 19, 2019

करीब 25 साल पहले जब यूपी में सपा-बसपा ने मिलकर चुनाव लड़ा था, तब इसी मैदान पर मुलायम और कांशीराम ने साझा रैली की थी. उसके बाद लखनऊ का बहुचर्चित गेस्ट हाउस कांड हुआ तो दोनों दलों के रास्ते जुदा हो गए थे. आज उसी मैदान पर सपा-बसपा का शीर्ष नेतृत्व साथ आया तो मुलायम और अखिलेश ने अपने भाषणों में मायावती के प्रति सम्मान दिखाने की अपने कार्यकताओं से बार-बार अपील कर परोक्ष रूप से गेस्ट हाउस कांड पर अफसोस जताया तो वहीं मायावती ने गेस्ट हाउस कांड को भुलाकर आगे बढ़ जाने का संदेश देते हुए कहा कि जिनके मन में सवाल है कि गेस्ट हाउस कांड के बावजूद मैं यहां मुलायम सिंह यादव के लिए वोट मांगने क्यों आई हूं तो वे जान लें कि देश, जनता और बहुजन मूवमेंट के हित में गठबंधन किया है और यह बीजेपी को सत्ता से हटाएगा. सुनिए पूरा पोडकास्ट.

news18 hindi

करीब 25 साल पहले जब यूपी में सपा-बसपा ने मिलकर चुनाव लड़ा था, तब इसी मैदान पर मुलायम और कांशीराम ने साझा रैली की थी. उसके बाद लखनऊ का बहुचर्चित गेस्ट हाउस कांड हुआ तो दोनों दलों के रास्ते जुदा हो गए थे. आज उसी मैदान पर सपा-बसपा का शीर्ष नेतृत्व साथ आया तो मुलायम और अखिलेश ने अपने भाषणों में मायावती के प्रति सम्मान दिखाने की अपने कार्यकताओं से बार-बार अपील कर परोक्ष रूप से गेस्ट हाउस कांड पर अफसोस जताया तो वहीं मायावती ने गेस्ट हाउस कांड को भुलाकर आगे बढ़ जाने का संदेश देते हुए कहा कि जिनके मन में सवाल है कि गेस्ट हाउस कांड के बावजूद मैं यहां मुलायम सिंह यादव के लिए वोट मांगने क्यों आई हूं तो वे जान लें कि देश, जनता और बहुजन मूवमेंट के हित में गठबंधन किया है और यह बीजेपी को सत्ता से हटाएगा. सुनिए पूरा पोडकास्ट.

Latest Live TV

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार