आर्मी सिर्फ रक्षा ही नहीं करती, 2 मिनट फटाफट फूड भी बनाती है

नॉलेजJanuary 1, 2019, 9:54 PM IST

अगर आपको चपाती बनानी है तो पहले आटा गूंथेंगे. फिर आटे की लोई से रोटी बेलेंगे और फिर इसे तवे पर सेंककर खाने लायक रोटी बना पाएंगे. लेकिन आप हैरान हो सकते हैं कि भारत के सैन्य क्षेत्र में अपने इनोवेशन के लिए प्रसिद्ध डीआरडीओ ने खाने के क्षेत्र में गजब का काम किया है. हालांकि खाने की तैयार व्यंजनों का जिम्मा डीआरडीओ की सहयोगी संस्था डीएफआरएल यानि डिफेंस फूड रिसर्च लबोरेटरी संभालती है. इसके तहत दुर्गम क्षेत्रों में तैनात सैनिकों को पैकेट में बंद करके ऐसे खाद्य पदार्थ भेजे जाते हैं, जो रेडी टू इट स्थिति में होते हैं. बस इन्हें निकालकर गर्म करना होता है..और ऐसे व्यंजनों की फेहरिश्त बहुत लंबी है. ये प्रिजर्व्य चपाती कम से कम 15 से 30 दिनों तक सुरक्षित रह सकती है.

news18 hindi

अगर आपको चपाती बनानी है तो पहले आटा गूंथेंगे. फिर आटे की लोई से रोटी बेलेंगे और फिर इसे तवे पर सेंककर खाने लायक रोटी बना पाएंगे. लेकिन आप हैरान हो सकते हैं कि भारत के सैन्य क्षेत्र में अपने इनोवेशन के लिए प्रसिद्ध डीआरडीओ ने खाने के क्षेत्र में गजब का काम किया है. हालांकि खाने की तैयार व्यंजनों का जिम्मा डीआरडीओ की सहयोगी संस्था डीएफआरएल यानि डिफेंस फूड रिसर्च लबोरेटरी संभालती है. इसके तहत दुर्गम क्षेत्रों में तैनात सैनिकों को पैकेट में बंद करके ऐसे खाद्य पदार्थ भेजे जाते हैं, जो रेडी टू इट स्थिति में होते हैं. बस इन्हें निकालकर गर्म करना होता है..और ऐसे व्यंजनों की फेहरिश्त बहुत लंबी है. ये प्रिजर्व्य चपाती कम से कम 15 से 30 दिनों तक सुरक्षित रह सकती है.

Latest Live TV