होम » वीडियो » नॉलेज

शवों के साथ शारीरिक सम्बन्ध क्यों बनाते हैं अघोरी?

नॉलेजJanuary 17, 2019, 10:13 PM IST

अघोरी शब्द का संस्कृत भाषा में मतलब होता है 'उजाले की ओर'. साथ ही इस शब्द को पवित्रता और सभी बुराइयों से मुक्त भी समझा जाता है. लेकिन अघोरियों को रहन-सहन और तरीके इसके बिलकुल विरुद्ध ही दिखते हैं. जो बातें आम जनमानस को वीभत्स लगती हैं, अघोरियों के लिए वो उनकी साधना का हिस्सा है. अघोरी खुद को पूरी तरह से शिव में लीन करना चाहते हैं. शिव के पांच रूपों में से एक रूप 'अघोर' है. शिव की उपासना करने के लिए ये अघोरी शव पर बैठकर साधना करते हैं. 'शव से शिव की प्राप्ति' का यह रास्ता अघोर पंथ की निशानी है. ये अघोरी 3 तरह की साधनाएं करते हैं, शव साधना, शिव साधना और श्मशान साधना.

news18 hindi

अघोरी शब्द का संस्कृत भाषा में मतलब होता है 'उजाले की ओर'. साथ ही इस शब्द को पवित्रता और सभी बुराइयों से मुक्त भी समझा जाता है. लेकिन अघोरियों को रहन-सहन और तरीके इसके बिलकुल विरुद्ध ही दिखते हैं. जो बातें आम जनमानस को वीभत्स लगती हैं, अघोरियों के लिए वो उनकी साधना का हिस्सा है. अघोरी खुद को पूरी तरह से शिव में लीन करना चाहते हैं. शिव के पांच रूपों में से एक रूप 'अघोर' है. शिव की उपासना करने के लिए ये अघोरी शव पर बैठकर साधना करते हैं. 'शव से शिव की प्राप्ति' का यह रास्ता अघोर पंथ की निशानी है. ये अघोरी 3 तरह की साधनाएं करते हैं, शव साधना, शिव साधना और श्मशान साधना.

Latest Live TV