लाइव टीवी
होम » वीडियो » मध्य प्रदेश

VIDEO : पितृपक्ष के शुरू होते ही नर्मदा तट पर उमड़े तर्पण करने वाले

हरदा ETV MP/Chhattisgarh| September 6, 2017, 3:13 PM IST

हिन्दू धर्म के अनुसार बुधवार से श्राद्ध पक्ष की शुरुआत हो गई है. श्राद्ध पक्ष में नर्मदा तट के हंडिया और नेमावर में बड़ी संख्या में लोग अपने पितरो का श्राद्ध करने आते हैं. पुराणों और धर्म ग्रंथो के अनुसार ऐसा कहा जाता है की श्राद्ध पक्ष में नर्मदा किनारे पित्रों का तर्पण करने से उन्हें गयाजी की तरह मोक्ष की प्राप्ति होती है. नर्मदा के दक्षिणी तट को गयाजी के बराबर स्थान दिया गया है. मान्यता के अनुसार त्रेता युग में भगवान परशुराम ने भी नर्मदा के तट पर अपने पिता ऋषि जमदग्नि का पिंडदान किया था. कहा जाता है की नर्मदा का जन्म पितरों के मोक्ष के लिए हुआ है.

praveen
First published: September 6, 2017, 3:13 PM IST

हिन्दू धर्म के अनुसार बुधवार से श्राद्ध पक्ष की शुरुआत हो गई है. श्राद्ध पक्ष में नर्मदा तट के हंडिया और नेमावर में बड़ी संख्या में लोग अपने पितरो का श्राद्ध करने आते हैं. पुराणों और धर्म ग्रंथो के अनुसार ऐसा कहा जाता है की श्राद्ध पक्ष में नर्मदा किनारे पित्रों का तर्पण करने से उन्हें गयाजी की तरह मोक्ष की प्राप्ति होती है. नर्मदा के दक्षिणी तट को गयाजी के बराबर स्थान दिया गया है. मान्यता के अनुसार त्रेता युग में भगवान परशुराम ने भी नर्मदा के तट पर अपने पिता ऋषि जमदग्नि का पिंडदान किया था. कहा जाता है की नर्मदा का जन्म पितरों के मोक्ष के लिए हुआ है.

हिन्दू धर्म के अनुसार बुधवार से श्राद्ध पक्ष की शुरुआत हो गई है. श्राद्ध पक्ष में नर्मदा तट के हंडिया और नेमावर में बड़ी संख्या में लोग अपने पितरो का श्राद्ध करने आते हैं. पुराणों और धर्म ग्रंथो के अनुसार ऐसा कहा जाता है की श्राद्ध पक्ष में नर्मदा किनारे पित्रों का तर्पण करने से उन्हें गयाजी की तरह मोक्ष की प्राप्ति होती है. नर्मदा के दक्षिणी तट को गयाजी के बराबर स्थान दिया गया है. मान्यता के अनुसार त्रेता युग में भगवान परशुराम ने भी नर्मदा के तट पर अपने पिता ऋषि जमदग्नि का पिंडदान किया था. कहा जाता है की नर्मदा का जन्म पितरों के मोक्ष के लिए हुआ है.

Latest Live TV

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

कुछ ऐसी घटनाएँ आपकी परेशानी का कारण बन सकती हैं, जिन्हें टालना मुमकिन न हो। लेकिन आप ख़ुद को शांत बनाए रखें और हालात से निपटने के लिए तुरंत प्रतिक्रिया न करें। आर्थिक समस्याओं ने रचनात्मक सोचने की आपकी क्षमता को बेकार कर दिया है। आज आप यह जानकर बहुत उदास महसूस करेंगे कि कोई ऐसा जिसपर आपने हमेशा विश्वास किया, दरअसल उतना भरोसेमंद नहीं है। अपने प्रिय को आज निराश न करें- क्योंकि ऐसा करने की वजह से बाद में आपको पछताना पड़ सकता है। यह दिन वाक़ई थोड़ा मुश्किल है। काम पर जाने से पहले मन पक्का कर लें। आज सोच-समझकर क़दम बढ़ाने की ज़रूरत है- जहाँ दिल की बजाय दिमाग़ का ज़्यादा इस्तेमाल करना चाहिए। आज अपने जीवनसाथी का वह रुख़ देखने को मिलेगा, जो उतना अच्छा नहीं है। अकेलेपन को अपने ऊपर हावी न होने दें, इससे बेहतर होगा कि आप कहीं घूमने के लिए निकल सकते हैं। परेशान? आप पंडित जी से प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
corona virus btn
corona virus btn
Loading