VIDEO: इस गांव के लोग रावण को मानते हैं अपना पूर्वज, बना रहे हैं मंदिर

मंडलाOctober 28, 2018, 1:27 PM IST

मध्य प्रदेश के मंडला जिले में रावण का मंदिर बनाया जा रहा है. प्रदेश में विधानसभा चुनाव है और राम मंदिर हमेशा चुनाव का मुद्दा बनता है, लेकिन मंडला जिला मुख्यालय से मात्र 20 किलोमीटर दूर डुंगरिया गांव के लोग रावण का मंदिर बनाने में जुटे हैं. इस गांव के लोग कोयावंशी रावण को अपना पूर्वज मानते हैं और इसी के चलते यहां भव्य रावण मंदिर का निर्माण किया जा रहा है. यहां ग्रामीणों ने मंदिर निर्माण की आधारशिला दशहरे के दिन मढियां बनाकर की. रावण को महात्मा, महान शाशक, बलिष्ट, ज्ञानी पंडित की उपाधी देकर मंदिर में लोग दर्शन कर रहे हैं. मंदिर के पुजारी ने बताया कि जब भी वे रामायण का पाठ करने के लिए जाते थे तो सैला नृत्य और गायन के दौरान उन्हें रावण वंशी कहा जाता था, इसके बाद उन्होंने कई पुस्तकें पढ़ी, जिससे उन्हें उनके रावण वंशी होने का ज्ञान हुआ. ग्रामीणों का कहना है की रावण कोयवंशी थी, जिसका अर्थ है कि गुफाओं में रहने वाला. रावण यहां का मूल निवासी और आदिवासियों का पूर्वज है.

Krishna Sahu

मध्य प्रदेश के मंडला जिले में रावण का मंदिर बनाया जा रहा है. प्रदेश में विधानसभा चुनाव है और राम मंदिर हमेशा चुनाव का मुद्दा बनता है, लेकिन मंडला जिला मुख्यालय से मात्र 20 किलोमीटर दूर डुंगरिया गांव के लोग रावण का मंदिर बनाने में जुटे हैं. इस गांव के लोग कोयावंशी रावण को अपना पूर्वज मानते हैं और इसी के चलते यहां भव्य रावण मंदिर का निर्माण किया जा रहा है. यहां ग्रामीणों ने मंदिर निर्माण की आधारशिला दशहरे के दिन मढियां बनाकर की. रावण को महात्मा, महान शाशक, बलिष्ट, ज्ञानी पंडित की उपाधी देकर मंदिर में लोग दर्शन कर रहे हैं. मंदिर के पुजारी ने बताया कि जब भी वे रामायण का पाठ करने के लिए जाते थे तो सैला नृत्य और गायन के दौरान उन्हें रावण वंशी कहा जाता था, इसके बाद उन्होंने कई पुस्तकें पढ़ी, जिससे उन्हें उनके रावण वंशी होने का ज्ञान हुआ. ग्रामीणों का कहना है की रावण कोयवंशी थी, जिसका अर्थ है कि गुफाओं में रहने वाला. रावण यहां का मूल निवासी और आदिवासियों का पूर्वज है.

Latest Live TV