VIDEO: चंबल में देखें इस तरह से बढ़ रहा है घड़ियालों का कुनबा

मध्य प्रदेशJune 5, 2019, 2:22 PM IST

मुरैना देवरी स्थित चंबल घड़ियाल सेंचुरी में खुशी का माहौल है. यहां हैचिंग के बाद अंडों को तोड़कर 8 नन्हें घड़ियाल के शावक बाहर निकले. सेंचुरी के डॉक्टरों की माने तो सभी शावक स्वस्थ्य हैं. इन्हें तीन वर्षों तक सेंचुरी में ही रखा जाएगा. 1.20 मीटर लंबे होने के बाद इन्हें चंबल नदी में छोड़ दिया जाएगा. गौरतलब है कि हर साल चंबल नदी से करीब 200 घड़ियालों के अंडों को लाया जाता है और हैचिंग कराई जाती है. आंकड़ों की माने तो अभी चंबल नहीं में करीब 1265 घड़ियाल मौजूद है. बता दें कि मुरैना के देवरी गांव में घड़ियाल का संरक्षण एवं संवर्धन सेंटर है.

Dushyant Sikarwar

मुरैना देवरी स्थित चंबल घड़ियाल सेंचुरी में खुशी का माहौल है. यहां हैचिंग के बाद अंडों को तोड़कर 8 नन्हें घड़ियाल के शावक बाहर निकले. सेंचुरी के डॉक्टरों की माने तो सभी शावक स्वस्थ्य हैं. इन्हें तीन वर्षों तक सेंचुरी में ही रखा जाएगा. 1.20 मीटर लंबे होने के बाद इन्हें चंबल नदी में छोड़ दिया जाएगा. गौरतलब है कि हर साल चंबल नदी से करीब 200 घड़ियालों के अंडों को लाया जाता है और हैचिंग कराई जाती है. आंकड़ों की माने तो अभी चंबल नहीं में करीब 1265 घड़ियाल मौजूद है. बता दें कि मुरैना के देवरी गांव में घड़ियाल का संरक्षण एवं संवर्धन सेंटर है.

Latest Live TV