होम » वीडियो » मध्य प्रदेश

VIDEO : मुराद पूरी होने के बाद यहां होली के दिन निभाई जाती है ये खतरनाक परंपरा

उज्जैन News18 Madhya Pradesh| March 22, 2019, 12:15 PM IST

उज्जैन जिले के टकवासा गांव में होली के अवसर पर सालों से चली आ रही गरल घुमाने के परंपरा धूमधाम से मनाई गई. टकवासा के ग्रामीणों का मानना है की ऐसा करने से उनकी मनोकामनाएं पूरी होती है और हर साल होली के दिन गरल महादेव का उत्सव मनाते हैं. इस उत्सव में महिला और पुरूष बड़ी संख्या में शामिल होते हैं. इस परंपरा में पहले महिलाएं होली जलाती हैं, फिर धधकते अंगारों से गुजरती हैं. इसके बाद गांव के लोग ऊंचाई पर एक चकरा बांधते हैं, जिसके एक तरफ मनोकामना पूरी हो जाने पर ग्रामीण रस्सी के सहारे लटकते हैं और उसे हवा में गोल घुमाया जाता है. इसे खतरों का खेल भी माना जा सकता है, क्योंकि मन्नत पूरी होने के बाद श्रद्धालु गरल महादेव की मन्नत पूरी करने के लिए ऊंचाई पर लटकता है. जिससे गिरने का भी डर होता है. इस परंपरा को देखने के लिए हजारों की संख्या में लोग यहां आते हैं.

Anand Nigam
First published: March 22, 2019, 12:14 PM IST

उज्जैन जिले के टकवासा गांव में होली के अवसर पर सालों से चली आ रही गरल घुमाने के परंपरा धूमधाम से मनाई गई. टकवासा के ग्रामीणों का मानना है की ऐसा करने से उनकी मनोकामनाएं पूरी होती है और हर साल होली के दिन गरल महादेव का उत्सव मनाते हैं. इस उत्सव में महिला और पुरूष बड़ी संख्या में शामिल होते हैं. इस परंपरा में पहले महिलाएं होली जलाती हैं, फिर धधकते अंगारों से गुजरती हैं. इसके बाद गांव के लोग ऊंचाई पर एक चकरा बांधते हैं, जिसके एक तरफ मनोकामना पूरी हो जाने पर ग्रामीण रस्सी के सहारे लटकते हैं और उसे हवा में गोल घुमाया जाता है. इसे खतरों का खेल भी माना जा सकता है, क्योंकि मन्नत पूरी होने के बाद श्रद्धालु गरल महादेव की मन्नत पूरी करने के लिए ऊंचाई पर लटकता है. जिससे गिरने का भी डर होता है. इस परंपरा को देखने के लिए हजारों की संख्या में लोग यहां आते हैं.

Latest Live TV