VIDEO: भीलवाड़ा में लोक स्वर लहरियों के बीच शुरू हुआ फूलडोल महोत्सव

भीलवाड़ा10:16 AM IST Mar 22, 2019

भीलवाड़ा जिले के शाहपुरा में राम नाम की गूंज व हजारों भक्तों के बीच लोक स्वर लहरियों के साथ रामस्नेही संप्रदाय के वार्षिक फूलडोल महोत्सव का शुभारंभ हुआ. गुरुवार को महोत्सव के पहले दिन परंपरागत रूप से अणभैवाणीजी की शोभायात्रा निकाली गई. महोत्सव में भाग लेने के लिए राजस्थान के अलावा अन्य प्रांतों से भक्तजन शाहपुरा पहुंच रहे हैं. शाहपुरा में फूलडोल महोत्सव का आयोजन होने के कारण यहां पर धुलंडी पर रंग भी नहीं खेला जाता है. फूलडोल महोत्सव में रामनिवास धाम में गुरुवार की सुबह रामधुन का आयोजन हुआ. संप्रदाय के संस्थापक आचार्य श्री रामचरणजी महाराज की काली कंबलजी को बारादरी में दर्शनार्थ सुशोभित किया गया. रामस्नेही संप्रदाय के आद्य संस्थापक महाप्रभु रामचरणजी महाराज की वाणीजी की शोभायात्रा राममेडिया से बैंड बाजो के साथ सदर बाजार होती हुई रामनिवास धाम पहुंची. इससे पूर्व पहले दिन शाहपुरा व कैकड़ी तहसील के ग्रामीण क्षेत्र के लोक कलाकारों ने अपनी परंपरागत शैली में लोक लहरियां व केसिया गायन प्रस्तुत कर सबका मन मोहन लिया.

Pramod Tiwari

भीलवाड़ा जिले के शाहपुरा में राम नाम की गूंज व हजारों भक्तों के बीच लोक स्वर लहरियों के साथ रामस्नेही संप्रदाय के वार्षिक फूलडोल महोत्सव का शुभारंभ हुआ. गुरुवार को महोत्सव के पहले दिन परंपरागत रूप से अणभैवाणीजी की शोभायात्रा निकाली गई. महोत्सव में भाग लेने के लिए राजस्थान के अलावा अन्य प्रांतों से भक्तजन शाहपुरा पहुंच रहे हैं. शाहपुरा में फूलडोल महोत्सव का आयोजन होने के कारण यहां पर धुलंडी पर रंग भी नहीं खेला जाता है. फूलडोल महोत्सव में रामनिवास धाम में गुरुवार की सुबह रामधुन का आयोजन हुआ. संप्रदाय के संस्थापक आचार्य श्री रामचरणजी महाराज की काली कंबलजी को बारादरी में दर्शनार्थ सुशोभित किया गया. रामस्नेही संप्रदाय के आद्य संस्थापक महाप्रभु रामचरणजी महाराज की वाणीजी की शोभायात्रा राममेडिया से बैंड बाजो के साथ सदर बाजार होती हुई रामनिवास धाम पहुंची. इससे पूर्व पहले दिन शाहपुरा व कैकड़ी तहसील के ग्रामीण क्षेत्र के लोक कलाकारों ने अपनी परंपरागत शैली में लोक लहरियां व केसिया गायन प्रस्तुत कर सबका मन मोहन लिया.

Latest Live TV