दहेलवालजी मेले में आयोजित हुआ कवि सम्मेलन, मंत्रमुग्ध हुए श्रोता

बूंदी08:03 PM IST Oct 10, 2018

बूंदी जिले के नैनवा कस्बे में चल रहे 15 दिवसीय दहेलवालजी मेले में आयोजित कार्यक्रमों की कड़ी में मंगलवार की रात अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया. जिसमें प्रस्तुति देने के लिए देशभर से आए ख्यातनाम कवियों ने श्रृंगार, हास्य-व्यग्य और वीर रस की कविताओं से ऐसा समां बांधा कि उपस्थित श्रोता मंत्रमुग्ध हो गए. मुख्य अतिथि डां.मदसूदन शर्मा और रेखा लोधा की अध्यक्षता में में रात साढ़े दस बजे से शुरू होकर सुबह साढ़े पांच बजे तक चले कवि सम्मेलन के दौरान जहां फालना से आई कविता किरण ने अभी मेरे अन्दर है वो लड़की 16साल की सुनाई. मंदसोर की प्रेरणा ठाकरे ने ढाई अक्षर प्रेम का पढे़ तो पंडित होय गीत पर श्रृंगार रस में अद्भुत प्रस्तुति देकर लोगों को रोमांचित कर दिया. चौथ का बरवाड़ा से आए लाफ्टर किंग सुरेश अलबेला ने हास्य रस की एक से बढ़कर एक कविताएं सुनाकर श्रोताओं को ठहाके लगाने के लिए मजबूर कर दिया.

news18 hindi

बूंदी जिले के नैनवा कस्बे में चल रहे 15 दिवसीय दहेलवालजी मेले में आयोजित कार्यक्रमों की कड़ी में मंगलवार की रात अखिल भारतीय कवि सम्मेलन का आयोजन किया गया. जिसमें प्रस्तुति देने के लिए देशभर से आए ख्यातनाम कवियों ने श्रृंगार, हास्य-व्यग्य और वीर रस की कविताओं से ऐसा समां बांधा कि उपस्थित श्रोता मंत्रमुग्ध हो गए. मुख्य अतिथि डां.मदसूदन शर्मा और रेखा लोधा की अध्यक्षता में में रात साढ़े दस बजे से शुरू होकर सुबह साढ़े पांच बजे तक चले कवि सम्मेलन के दौरान जहां फालना से आई कविता किरण ने अभी मेरे अन्दर है वो लड़की 16साल की सुनाई. मंदसोर की प्रेरणा ठाकरे ने ढाई अक्षर प्रेम का पढे़ तो पंडित होय गीत पर श्रृंगार रस में अद्भुत प्रस्तुति देकर लोगों को रोमांचित कर दिया. चौथ का बरवाड़ा से आए लाफ्टर किंग सुरेश अलबेला ने हास्य रस की एक से बढ़कर एक कविताएं सुनाकर श्रोताओं को ठहाके लगाने के लिए मजबूर कर दिया.

Latest Live TV