VIDEO: भूत-प्रेत और आत्माओं को मनाने के लिए पूजा-अर्चना

बूंदीApril 16, 2018, 2:26 PM IST

21वीं सदी में भी बूंदी जिले के कुछ लोग अंधविश्वास में डूबे हैं. भूत-प्रेत और आत्माओं के चक्कर से मुक्त नहीं हो पा रहे हैं. आत्माओं को मनाने के लिए लोग पूजा-अर्चना कर रहे हैं. ऐसा ही एक नजारा बूंदी जिला चिकित्सालय और कोटा रोड़ बाजार पर देखने को मिला जहां मरे दो नवजात बच्चों और एक अधेड़ व्यक्ति की आत्मा को घर ले जाने के लिए सीतापुरा कबाड़ी और नैनवा कस्बे से आए परिजनों ने अनुष्ठान किया. सीतापुरा गांव से आए परिजनों का कहना हैं की 30 वर्ष पूर्व नवजात बच्चे की कोटा रोड़ पर मोत हो गई थी. जिसके चलते पिछले 30 वर्ष से उक्त नवजात बच्चे की आत्मा शहर में कोटा रोड बाजार में भटकने से उनके घर में अशांति चल रही थी. ऐसे में उनके परिवार के एक व्यक्ति के शरीर में आए देवता ने उन्हें नवजात बच्चे की आत्मा को मना कर लाने को कहा है.

Chain Singh Tanwar

21वीं सदी में भी बूंदी जिले के कुछ लोग अंधविश्वास में डूबे हैं. भूत-प्रेत और आत्माओं के चक्कर से मुक्त नहीं हो पा रहे हैं. आत्माओं को मनाने के लिए लोग पूजा-अर्चना कर रहे हैं. ऐसा ही एक नजारा बूंदी जिला चिकित्सालय और कोटा रोड़ बाजार पर देखने को मिला जहां मरे दो नवजात बच्चों और एक अधेड़ व्यक्ति की आत्मा को घर ले जाने के लिए सीतापुरा कबाड़ी और नैनवा कस्बे से आए परिजनों ने अनुष्ठान किया. सीतापुरा गांव से आए परिजनों का कहना हैं की 30 वर्ष पूर्व नवजात बच्चे की कोटा रोड़ पर मोत हो गई थी. जिसके चलते पिछले 30 वर्ष से उक्त नवजात बच्चे की आत्मा शहर में कोटा रोड बाजार में भटकने से उनके घर में अशांति चल रही थी. ऐसे में उनके परिवार के एक व्यक्ति के शरीर में आए देवता ने उन्हें नवजात बच्चे की आत्मा को मना कर लाने को कहा है.

Latest Live TV