VIDEO : दौसा के बांदीकुई में माह में सिर्फ दो दिन मिल रहा पानी, जलदाय कार्यालय पर किया प्रदर्शन

दौसाMarch 26, 2019, 4:13 PM IST

दौसा जिले के बांदीकुई में गर्मी के शुरू होने के साथ ही पानी की समस्या विकराल रूप लेती जा रही है. लोगों का कहना है कि उनको 10 से 15 दिन में एक बार पानी मिल रहा है. इससे लोगों का जलदाय विभाग के खिलाफ आक्रोश बढ़ता जा रहा है. चिकित्सालय के पीछे के मोहल्ले के काफी संख्या में महिला व पुरुषों ने मंगलवार को जलदाय विभाग कार्यालय पहुंच विरोध प्रदर्शन किया और कनिष्ठ अभियंता सज्जन सिंह के समक्ष विरोध जताया. महिलाओं का कहना है कि गर्मी का मौसम शुरू हो गया है लेकिन जलदाय विभाग की ओर से पानी की समस्या के समाधान के कोई प्रयास नहीं किा जा रहा है. विभागीय अधिकारी कार्रवाई के नाम पर आंखे मूंदकर बैठे हुए हैं. गर्मी में लोगों के कंठ तर करना मुश्किल हो रहा है. लोगों को जेब ढीली करके वाटर टैंकर मंगवाकर घरेलू काम निपटाने पड़ रहे हैं. विरोध को देखते हुए अधिकारी सीटों पर नहीं बैठते हैं. इसी लिए मजबूरन आंदोलन पर उतारू होना पड़ा है. उन्होंने अधिक समस्याग्रस्त क्षेत्रों में टैंकर चालू किए जाने की मांग की. खास बात यह है कि शहर की आबादी के हिसाब से 65 लाख लीटर पानी की आवश्यकता है जबकि उत्पादन मात्र 15 लाख लीटर हो रहा है. जेइएन ने अपेक्षित कार्रवाई का भरोसा दिलाकर मामला शांत किया।

Ashish Sharma, Dausa

दौसा जिले के बांदीकुई में गर्मी के शुरू होने के साथ ही पानी की समस्या विकराल रूप लेती जा रही है. लोगों का कहना है कि उनको 10 से 15 दिन में एक बार पानी मिल रहा है. इससे लोगों का जलदाय विभाग के खिलाफ आक्रोश बढ़ता जा रहा है. चिकित्सालय के पीछे के मोहल्ले के काफी संख्या में महिला व पुरुषों ने मंगलवार को जलदाय विभाग कार्यालय पहुंच विरोध प्रदर्शन किया और कनिष्ठ अभियंता सज्जन सिंह के समक्ष विरोध जताया. महिलाओं का कहना है कि गर्मी का मौसम शुरू हो गया है लेकिन जलदाय विभाग की ओर से पानी की समस्या के समाधान के कोई प्रयास नहीं किा जा रहा है. विभागीय अधिकारी कार्रवाई के नाम पर आंखे मूंदकर बैठे हुए हैं. गर्मी में लोगों के कंठ तर करना मुश्किल हो रहा है. लोगों को जेब ढीली करके वाटर टैंकर मंगवाकर घरेलू काम निपटाने पड़ रहे हैं. विरोध को देखते हुए अधिकारी सीटों पर नहीं बैठते हैं. इसी लिए मजबूरन आंदोलन पर उतारू होना पड़ा है. उन्होंने अधिक समस्याग्रस्त क्षेत्रों में टैंकर चालू किए जाने की मांग की. खास बात यह है कि शहर की आबादी के हिसाब से 65 लाख लीटर पानी की आवश्यकता है जबकि उत्पादन मात्र 15 लाख लीटर हो रहा है. जेइएन ने अपेक्षित कार्रवाई का भरोसा दिलाकर मामला शांत किया।

Latest Live TV