राजसमंद के एक स्कूल को हर साल गोद लेती हैं विदेश में रह रहीं ज्योति

राजसमन्द‍08:51 AM IST Feb 12, 2019

कोई इंसान अगर रोजी-रोटी के लिए सात समंदर पार भी चला जाए तो मिट्टी की खुशबू उसकी सांसो में बसी रहती है, राजसमंद की ज्योति कोठारी ने इसी बात को सत्य साबित किया है. ज्योति पिछले बीस वर्षों से विदेश में रह रही हैं, लेकिन राजसमंद मूल की होने के नाते वे अपने द्वारा चलायी जा रही ज्योति कोठारी चेरिटेबल ट्रस्ट के तहत हर वर्ष राजसमंद के एक ग्रामीण विद्यालय को गोद लेती हैं और वहां के सरकारी विद्यालय में पढ़ने वाले बच्चों के लिए शिक्षण सामग्री और खेलकूद सहित आधुनिक सामग्री उपलब्ध कराने के साथ छात्रवृत्ति भी भेंट करती हैं. पिछले पंद्रह वर्ष से यह क्रम चला आ रहा है.इसमें आस्ट्रेलिया के रोटरी क्लब प्राग के अध्यक्ष जेरी का सहयोग मिलता है. सोमवार को धोइन्दा के गारियावास सरकारी विद्यालय मे समारोह आयोजित करके 80 बच्चों को यह सभी सामग्री भैंट की गई. समारोह में मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी युगलबिहारी दाधीच, ट्रस्ट के संरक्षक गुणसागर कर्णावट और ज्योति के परिवारवाले सहित विदेशी मेहमान भी मौजूद रहे. (रिपोर्ट- तरुण)

news18 hindi

कोई इंसान अगर रोजी-रोटी के लिए सात समंदर पार भी चला जाए तो मिट्टी की खुशबू उसकी सांसो में बसी रहती है, राजसमंद की ज्योति कोठारी ने इसी बात को सत्य साबित किया है. ज्योति पिछले बीस वर्षों से विदेश में रह रही हैं, लेकिन राजसमंद मूल की होने के नाते वे अपने द्वारा चलायी जा रही ज्योति कोठारी चेरिटेबल ट्रस्ट के तहत हर वर्ष राजसमंद के एक ग्रामीण विद्यालय को गोद लेती हैं और वहां के सरकारी विद्यालय में पढ़ने वाले बच्चों के लिए शिक्षण सामग्री और खेलकूद सहित आधुनिक सामग्री उपलब्ध कराने के साथ छात्रवृत्ति भी भेंट करती हैं. पिछले पंद्रह वर्ष से यह क्रम चला आ रहा है.इसमें आस्ट्रेलिया के रोटरी क्लब प्राग के अध्यक्ष जेरी का सहयोग मिलता है. सोमवार को धोइन्दा के गारियावास सरकारी विद्यालय मे समारोह आयोजित करके 80 बच्चों को यह सभी सामग्री भैंट की गई. समारोह में मुख्य जिला शिक्षा अधिकारी युगलबिहारी दाधीच, ट्रस्ट के संरक्षक गुणसागर कर्णावट और ज्योति के परिवारवाले सहित विदेशी मेहमान भी मौजूद रहे. (रिपोर्ट- तरुण)

Latest Live TV

News18 चुनाव टूलबार

  • 30
  • 24
  • 60
  • 60
चुनाव टूलबार