'आर पार' : कश्मीर, कर्नाटक फ़ॉर्मुले से 2019 में सरकार?

आर पार11:01 PM IST Nov 22, 2018

देश की सियासत में इन दिनों दुर्लभ तस्वीर देखने को मिल रही है क्योंकि एक दूसरे को कोस कर अपनी सियासत चमकाने वाले तमाम दल आज एक साथ मिलकर मोदी के खिलाफ ताल ठोक रहे हैं और ये नज़ारा कश्मीर से कन्याकुमारी तक साफ दिख रहा है. लेकिन कश्मीर में जो कुछ हुआ है वो कोई छोटी घटना नहीं है. वहां उमर अब्दुल्लाह और महबूबा मुफ्ती की पार्टी एक दूसरे के दुश्मन नंबर 1 हैं. BJP इनकी दुश्मन नंबर 1 नहीं है लेकिन फिर भी दोनों साथ आए. सभी दलों ने अपने सिद्धांतों को ताक पर रख दिया. दिल पर पत्थर रखकर मतभेद भुलाए जाए रहे हैं. लेकिन सवाल ये है कि क्या इस तमाम सियासी कसरत के दम पर विपक्ष 2019 में मोदी को मात दे पाएगा? 

अमिश देवगन

देश की सियासत में इन दिनों दुर्लभ तस्वीर देखने को मिल रही है क्योंकि एक दूसरे को कोस कर अपनी सियासत चमकाने वाले तमाम दल आज एक साथ मिलकर मोदी के खिलाफ ताल ठोक रहे हैं और ये नज़ारा कश्मीर से कन्याकुमारी तक साफ दिख रहा है. लेकिन कश्मीर में जो कुछ हुआ है वो कोई छोटी घटना नहीं है. वहां उमर अब्दुल्लाह और महबूबा मुफ्ती की पार्टी एक दूसरे के दुश्मन नंबर 1 हैं. BJP इनकी दुश्मन नंबर 1 नहीं है लेकिन फिर भी दोनों साथ आए. सभी दलों ने अपने सिद्धांतों को ताक पर रख दिया. दिल पर पत्थर रखकर मतभेद भुलाए जाए रहे हैं. लेकिन सवाल ये है कि क्या इस तमाम सियासी कसरत के दम पर विपक्ष 2019 में मोदी को मात दे पाएगा? 

Latest Live TV
-->