VIDEO: कैसे बुझेगी अल्मोड़ा की प्यास... पीने लायक नहीं रहा नौलों का पानी

अल्मोड़ा03:06 PM IST Aug 03, 2018

एक दौर में अल्मोड़ा की पहचान रहे पारम्परिक पानी के स्त्रोत, नौले, शहरीकरण की भेंट चढ़ चुके हैं. हालत यह है कि पूरे अल्मोड़ा की प्यास बुझाने वाले 360 नौलों में से एक भी नौला शुद्ध पेयजल नहीं दे पा रहा है. दरअसल पिछले ढाई दशक में शहर कंक्रीट के जंगल में तब्दील हो गया है. बेतरतीब निर्माण और लगातार बढ़ती बसावट ने सबसे अधिक नुकसान नौलों को ही किया है. नगरपालिका की सूची में भी सिर्फ पांच दर्जन नौले ही अब पंजीकृत हैं बाकी 300 से अधिक नौले अतिक्रमण की चपेट में हैं. नौलों पर अतिक्रमण होता रहा लेकिन जिम्मेदार विभाग आंख बंद कर बैठे रहे. अब पानी की टेस्टिंग करवाने के बाद जल संस्थान ने नौलों के आगे यह लिखकर अपने कर्तव्य की इतिश्री कर ली है कि यह पानी सीधे पीने योग्य नहीं है.

Kishan Joshi

एक दौर में अल्मोड़ा की पहचान रहे पारम्परिक पानी के स्त्रोत, नौले, शहरीकरण की भेंट चढ़ चुके हैं. हालत यह है कि पूरे अल्मोड़ा की प्यास बुझाने वाले 360 नौलों में से एक भी नौला शुद्ध पेयजल नहीं दे पा रहा है. दरअसल पिछले ढाई दशक में शहर कंक्रीट के जंगल में तब्दील हो गया है. बेतरतीब निर्माण और लगातार बढ़ती बसावट ने सबसे अधिक नुकसान नौलों को ही किया है. नगरपालिका की सूची में भी सिर्फ पांच दर्जन नौले ही अब पंजीकृत हैं बाकी 300 से अधिक नौले अतिक्रमण की चपेट में हैं. नौलों पर अतिक्रमण होता रहा लेकिन जिम्मेदार विभाग आंख बंद कर बैठे रहे. अब पानी की टेस्टिंग करवाने के बाद जल संस्थान ने नौलों के आगे यह लिखकर अपने कर्तव्य की इतिश्री कर ली है कि यह पानी सीधे पीने योग्य नहीं है.

Latest Live TV