होम » वीडियो » उत्तराखंड

VIDEO: बर्फबारी के बाद रास्ता खुलने से हर्षिल घाटी में बढ़ी पर्यटकों की चहल पहल

उत्‍तरकाशी News18 Uttarakhand| January 30, 2019, 6:45 PM IST

उत्तरकाशी में हुई बर्फबारी के बाद से हर्षिल घाटी की खूबसूरती बढ़ गई है. शीतकालीन पर्यटन को बढ़ावा देने के उद्देश्य से स्नो स्टॉर्म अभियान के तहत 'व्हेयर ईगल्स डेयर' ग्रुप से जुड़े पर्यटकों ने बर्फ से ढके हर्षिल धराली क्षेत्र में सफारी की. बता दें कि हाल ही में व्हेयर ईगल्स डेयर ग्रुप का आठ सदस्यीय दल हर्षिल वैली के लिए रवाना हुआ था. दल को गंगनानी से आगे गंगोत्री हाईवे पर हिमाच्छादित मिला. इस दौरान बीआरओ के जवानों ने हर्षिल और भैरोंघाटी तक हाईवे से बर्फ हटाकर यातायात बहाल किया. धराली और जांगला के बीच चांगथांग में बड़ा हिमखंड टूट कर गंगोत्री हाईवे पर पसरा हूआ था. उसे भी हटाकर यहां वाहनों की आवाजाही के लिए रास्ता बनाया गया. बता दें कि इस क्षेत्र में शीतकालीन पर्यटन की अपार संभावनाएं हैं. अगर बर्फबारी के दौरान भी यहां यातायात बाधित न हो और पर्यटन की ढांचागत सुविधाएं मिले, तो बड़ी संख्या में पर्यटकों को यहां आकर्षित किया जा सकता है. बता दें कि रास्ता खुल जाने के बाद से हर्षिल घाटी में पर्यटकों की चहल कदमी बढ़ गई है. पर्यटक खूबसूरत नजारों का लुत्फ उठा रहे हैं.

Jagmohan Singh Chauhan
First published: January 30, 2019, 6:45 PM IST
Latest Live TV

फोटो

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

चिंता के विचार आपकी ख़ुशी को बर्बाद कर सकते हैं। ऐसा न होने दें, क्योंकि इनमें अच्छी चीज़ों को ख़त्म करने की और समझदारी में निराशा का ज़हरीला बीज बोने की क्षमता होती है। ख़ुद को हमेशा अच्छा परिणाम पाने के लिए प्रोत्साहित करें और ख़राब हालात में भी कुछ-न-कुछ अच्छा देखने का गुण विकसित करें। ख़ास लोग ऐसी किसी भी योजना में रुपये लगाने के लिए तैयार होंगे, जिसमें संभावना नज़र आए और विशेष हो। भूमि से जुड़ा विवाद लड़ाई में बदल सकता है। मामले को सुलझाने के लिए अपने माता-पिता की मदद लें। उनकी सलाह से काम करें, तो आप निश्चित तौर पर मुश्किल का हल ढूंढने में क़ामयाब रहेंगे। किसी से अचानक हुई रुमानी मुलाक़ात आपका दिन बना देगी। काम के लिए समर्पित पेशेवर लोग रुपये-पैसे और करिअर के मोर्चे पर फ़ायदे में रहेंगे। सफ़र के लिए दिन ज़्यादा अच्छा नहीं है। जीवनसाथी के ख़राब व्यवहार का नकारात्मक असर आपके ऊपर पड़ सकता है। स्वयंसेवी कार्य या किसी की मदद करना आपकी मानसिक शांति के लिए अच्छे टॉनिक का काम कर सकता है। परेशान? आप पंडित जी से प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें

टॉप स्टोरीज