लाइव टीवी
होम » वीडियो » दुनिया

VIDEO: साल 2018 में आ सकता है तगड़ा भूकंप

दुनिया News18Hindi| November 22, 2017, 7:23 PM IST

यूनिवर्सिटी ऑफ कोलोरैडो के रोजर बिल्हम और यूनिवर्सिटी ऑफ मोंटाना की रेबेका बेंडिक की रिसर्च में बताया गया है कि साल 2018 में दुनिया के कई हिस्सों में बड़े भूकंप आ सकते हैं. वैसे तो दुनिया में सभी को उम्मीदें होती हैं कि आने वाले साल खुशियों की सौगात लेकर आएगा, लेकिन साल 2018 को लेकर हुए एक रिसर्च ने पूरी दुनिया की परेशानी बढ़ा दी है. रोजर बिल्हम और रेबेका बेंडिक की रिसर्च में संभावना व्यक्त की गई है कि साल 2018 में आने वाला भूकंप दुनियाभर में तबाही मचा सकता है. ये भूकंप इतना ताकतवर होगा कि इमारतों को जमींदोज कर सकता सकता है और समंदर में सुनामी ला सकता है. ये इतना प्रबल होगा कि शहर के शहर उजाड़ सकते हैं. रिसर्च में भूकंप की वजह पृथ्वी की घूमने की स्पीड में होने वाला परिवर्तन बताया गया. रिसर्च के मुताबिक पृथ्वी के घूमने की रफ्तार हर रोज कुछ मिली सेकंड कम हो रही है. वैज्ञानिकों के अनुसार भूकंप और धरती के घूमने की रफ्तार में सीधा संबंध होता है. हालांकि वैज्ञानिकों दावा कर रहे हैं कि भूकंप से जुड़े खतरों के लिए 5-6 साल पहले एडवांस वॉर्निंग दी जा सकती है. रेबेका और रोजर ने अपनी इस रिसर्च की पूरी डिटेल जियोलॉजिकल सोसायटी ऑफ अमेरिका को भेज दी है. जिसमें बताया गया है कि पृथ्वी के किनारों में होने वाले छोटे बदलाव भी आने वाले भूकंप के कारण हो सकते हैं.

news18 hindi
First published: November 22, 2017, 7:23 PM IST

यूनिवर्सिटी ऑफ कोलोरैडो के रोजर बिल्हम और यूनिवर्सिटी ऑफ मोंटाना की रेबेका बेंडिक की रिसर्च में बताया गया है कि साल 2018 में दुनिया के कई हिस्सों में बड़े भूकंप आ सकते हैं. वैसे तो दुनिया में सभी को उम्मीदें होती हैं कि आने वाले साल खुशियों की सौगात लेकर आएगा, लेकिन साल 2018 को लेकर हुए एक रिसर्च ने पूरी दुनिया की परेशानी बढ़ा दी है. रोजर बिल्हम और रेबेका बेंडिक की रिसर्च में संभावना व्यक्त की गई है कि साल 2018 में आने वाला भूकंप दुनियाभर में तबाही मचा सकता है. ये भूकंप इतना ताकतवर होगा कि इमारतों को जमींदोज कर सकता सकता है और समंदर में सुनामी ला सकता है. ये इतना प्रबल होगा कि शहर के शहर उजाड़ सकते हैं. रिसर्च में भूकंप की वजह पृथ्वी की घूमने की स्पीड में होने वाला परिवर्तन बताया गया. रिसर्च के मुताबिक पृथ्वी के घूमने की रफ्तार हर रोज कुछ मिली सेकंड कम हो रही है. वैज्ञानिकों के अनुसार भूकंप और धरती के घूमने की रफ्तार में सीधा संबंध होता है. हालांकि वैज्ञानिकों दावा कर रहे हैं कि भूकंप से जुड़े खतरों के लिए 5-6 साल पहले एडवांस वॉर्निंग दी जा सकती है. रेबेका और रोजर ने अपनी इस रिसर्च की पूरी डिटेल जियोलॉजिकल सोसायटी ऑफ अमेरिका को भेज दी है. जिसमें बताया गया है कि पृथ्वी के किनारों में होने वाले छोटे बदलाव भी आने वाले भूकंप के कारण हो सकते हैं.

Latest Live TV