कैसा होता है अघोरी का जीवन?

Start Reading

एक अघोरी का जीवन सामन्य मनुष्य के जीवन से बिलकुल अलग होता है.

अघोरी मनुष्य का मांस खाते हैं और श्मशान घाट में रहते हैं. 

अघोरी भगवान शिव की उपासना करते हैं. अघोरा भगवान शिव के पांच रूपों में से एक है.

यह प्रचलित मान्यता है कि अघोरी संत साधना के साथ-साथ शवों से शारीरिक संपर्क भी बनाते हैं.

अन्य संतों की तरह अघोरी भी ब्रह्मचर्य का पालन नहीं करते हैं.

अघोरी मंत्र पढ़ते हैं और मृत शरीर पर राख छिड़कते हैं शारीरिक संबंध बनाते हैं.

अघोरी मानव खोपड़ी का उपयोग भोजन के बर्तन के रूप में करते हैं.

अघोरियों को कुत्ते बहुत प्रिय होते हैं. वे अपने आसपास कुत्तों को रखना पसंद करते हैं.

अघोरियों का मानना ​​है कि हर कोई अघोरी पैदा होता है.

पहली बार देखें राम मंदिर की तस्‍वीरें