क्या है कैश रिजर्व रेश्यो,
अर्थव्यवस्था पर कैसे होता
है इसका असर?

बैंकों को जमाराशि का एक हिस्सा
अनिवार्य रूप से आरबीआई के
पास रखना होता है.

इसे कैश रिजर्व रेश्यो या
सीआरआर कहते हैं.

इसका मुख्य उद्देश्य जमाकर्ताओं
की राशि का हिस्से सुरक्षित
रखना है.

आरबीआई द्वारा निर्धारित
सीआरआर 4.5 फीसदी है.

आपके बैंक में जमा हर ₹100 में
से ₹4.5 आरबीई के पास जाएंगे.

आरबीआई सीआरआर का
इस्तेमाल कर नकदी प्रवाह
भी घटाता है.

सीआरआर बढ़ने से बैंकों
के पास कर्ज देने योग्य
रकम घटती है.

इससे कर्ज महंगा होता है और
नकदी प्रवाह घटता है.

हालांकि, इससे डिमांड घटती है
और अर्थव्यवस्था को
नुकसान होता है.

और स्टोरीज पढ़ने के
लिए यहां क्लिक करें

क्लिक