ITR Filing: आईटीआर फाइल
करते समय इन 10 बातों का
रखें खास ख्याल

इनकम टैक्स फाइल करने की तारीख को
31 जुलाई 2021 से बढ़ाकर 31 दिसंबर 2021
कर दिया गया है.

incometax.gov.in पर जाकर
आयकर रिटर्न या आईटीआर फाइलिंग
(ITR filing) की जा सकती है.

टैक्सपेयर को रेजिडेंशियल स्टेटस और विभिन्न
स्रोतों से आय के आधार पर सही ITR फॉर्म चुनना
चाहिए ताकि फाइलिंग में कोई गलती न हो.

टैक्स रिटर्न फाइल करते समय टैक्सपेयर्स को
पुराने और नए टैक्स रिजाइम में अपने लिए वह
विकल्प चुनना चाहिए जिसमें उन्हें फायदा हो.

आईटीआर फॉर्म में कुछ डेटा पहले से ही
भरे रहेंगे जैसे कि टैक्सपेयर की व्यक्तिगत
डिटेल्स, सैलरी इनकम आदि.

फॉर्म 26 एएस में टैक्स डिडक्टेड ऐट सोर्स (टीडीएस), एडवांस टैक्स और सेल्फ एसेसमेंट टैक्स को जरूर चेक कर लेना चाहिए. 

नए पोर्टल में फॉर्म 26AS के लिए भी आसान डाउनलोड सुविधा मौजूद है. 

टैक्सपेयर्स को शेड्यूल ईआई के तहत
एग्जेम्प्ट इनकम को बताना जरूरी है.

टैक्सपेयर ने ड्यू डेट तक आईटीआर नहीं फाइल
कर पाए तो लेट फाइलिंग फी, बैलेंस टैक्स
लाइबिलिटी पर इंटेरेस्ट का भुगतान करना होगा.

और स्टोरीज पढ़ने के
लिए यहां क्लिक करें

क्लिक