स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव बोले- 4 लाख से अधिक प्रवासी मजदूरों के आने की संभावना

स्वास्थ्य मंत्री ने एहतियात बरतने के बात  कही है.

स्वास्थ्य मंत्री ने एहतियात बरतने के बात कही है.

स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव (TS Singhdeo) का कहना है कि अभी एहतिहात बरतने की जरूरत है. सोशल डिस्टेसिंग का पालन करने की आवश्यकता है.

  • Share this:
रायपुर. छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) में प्रवासी मजदूरों (Migrant Workers) के लिए 18 हजार 491 क्वारंटाइन सेंटर चिन्हित किए गए हैं, जिनकी क्षमता 6 लाख 78 हजार 720 है.  लेकिन वर्तमान में यहां एक लाख 36 हजार 633 मजदूर रखे गए हैं. जैसे-जैसे मजदूर बाहर से आ रहे हैं, इन केंद्रों की क्षमता का अधिक इस्तेमाल होते जा रहा है. सरकार का कहना है कि प्रदेश में अब तक 48 हजार 116 कोरोना संदिग्धों की पहचान कर उनकी जांच की गई, जिसमें 45 हजार 22 की रिपोर्ट निगेटिव पाए गए है. वहीं दो हजार 922 की जांच जारी है. फिलहाल और कोई जांच रिपोर्ट नहीं आई है.

प्रदेश में प्रवासी मजदूरों की घर वापसी के साथ ही कोरोना के मरीज बढ़ते जा रहे हैं. ऐसे में स्वास्थ्य विभाग द्वारा अलग-अलग टीम बनाकर उन सबकी जांच की जा रही है. फिलहाल प्रदेश में कुल 110 एक्टिव मरीज हैं और इन सभी का एम्स और सरकारी अस्पतालों में इलाज चल रहा है. वहीं 67 ठीक होकर अपने घर चले गए हैं. जानकारी के मुताबिक वर्तमान में 40 हजार 649 लोग होम क्वारंटाइन में रखे गए हैं और उनकी नियमित जांच चल रही है.

स्वास्थ्य विभाग ने कही ये बात

स्वास्थ्य विाग से जारी विशेष मेडिकल बुलेटिन के मुताबिक प्रदेश में कुल 151 क्वारंटाइन सेंटर हैं, जिनकी क्षमता 3 हजार 292 है. यहां फिलहाल 914 लोग क्वारंटीन में रखे गए हैं. प्रवासी मजदूरों के लिए प्रदेश में 18 हजार 491 क्वारंटीन सेंटर चिन्हित किए गए हैं, जिनकी क्षमता 6 लाख 78 हजार 720 है. लेकिन वर्तमान में यहां एक लाख 36 हजार 633 मजदूर रखे गए हैं. स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि अन्य राज्यों से आने वाले प्रवासी मजदूरों या अन्य लोगों की जानकारी आसपास के स्वास्थ्य केन्द्रों में तुरंत देने कहा जा रहा है, ताकि उनकी स्क्रीनिंग और रैपिड जांच तुरंत हो सके. तो वहीं स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव का कहना है कि अभी एहतिहात बरतने की जरूरत है. सोशल डिस्टेसिंग का पालन करने की आवश्यकता है. आने वाले समय में प्रदेश में प्रवासी मजदूर करीब 4 लाख से अधिक के आने की संभावना है.


ये भी पढ़ें: 

 सूरजपुर: सड़क किनारे मिली SECL कर्मी की लाश, शरीर पर चोट के निशान, जांच शुरू 



रायपुर: कोरोना केस मिलने के बाद ये इलाका बना कंटेनमेंट जोन, 14 दिनों के लिए पूरी तरह सील 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज