Home /News /jharkhand /

COVID-19: रिम्स में भर्ती लालू प्रसाद यादव पर मंडराया कोरोना का खतरा टला, ये है वजह

COVID-19: रिम्स में भर्ती लालू प्रसाद यादव पर मंडराया कोरोना का खतरा टला, ये है वजह

 लालू प्रसाद यादव का कोरोना टेस्‍ट के लिए नहीं लिया जाएग सैंपल.(फाइल फोटो)

लालू प्रसाद यादव का कोरोना टेस्‍ट के लिए नहीं लिया जाएग सैंपल.(फाइल फोटो)

रांची स्थित रिम्स (RIMS) अस्पताल में भर्ती राजद सुप्रीमो और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद (Lalu Yadav) पर कोरोना जांच नहीं होगी, क्‍योंकि उनके डॉक्‍टर उमेश प्रसाद समेत यूनिट के सभी डॉक्टर एवं स्वास्थ्य कर्मियों की कोरोना जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है.

अधिक पढ़ें ...
    रांची. झारखंड की राजधानी रांची स्थित रिम्स (RIMS) अस्पताल में भर्ती राजद सुप्रीमो और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद (Lalu Yadav) पर कोरोना संक्रमण का मंडराता खतरा अब टल गया है. दरअसल, रिम्स के पेइंग वार्ड में भर्ती लालू यादव के डॉक्‍टर उमेश प्रसाद समेत उनकी यूनिट के सभी डॉक्टर एवं स्वास्थ्य कर्मियों की कोरोना जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है, लिहाजा अब राजद सुप्रीमो की कोरोना जांच भी नहीं होगी.

    मेडिसिन वार्ड में भर्ती बुजुर्ग निकला कोरोना पॉजिटिव
    डॉ. उमेश प्रसाद ने न्यूज़ 18 से कहा कि कुछ दिन पहले पुलिस एक बुजुर्ग को लेकर रिम्स पहुंची थी. उसका इलाज उनके ही मेडिसिन वार्ड में चल रहा है. उसी मरीज की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव आई है. उन्‍होंने कहा कि पॉजिटिव मरीज को मेडिसिन वार्ड से कोविड सेंटर भेज दिया गया है. वहीं 22 डॉक्टर, नर्स और मेडिकल स्टाफ ने अपने सैंपल जांच के लिए भेजे हैं, लेकिन किसी की भी रिपोर्ट पॉजिटिव (Positive) नहीं आई है. आपको बात दें कि रिम्स में डॉ. उमेश प्रसाद की ही यूनिट लालू प्रसाद का भी इलाज करती है. ऐसे में आरजेडी सुप्रीमो तक कोरोना संक्रमण का अंदेशा पैदा हो गया है. हालांकि यूनिट के सभी लोगों की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद अब लालू प्रसाद का कोरोना जांच के लिए सैंपल नहीं लिया जाएगा.

    कई बीमारियों से ग्रस्त हैं लालू
    झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने 13 अप्रैल को कहा था कि रिम्स के पृथक-वास इकाई में संक्रमण के मामले बढ़ने के कारण अस्वस्थ राजद प्रमुख को रिहा करने के लिए राज्य सरकार ने कानूनी राय मांगी है. प्रसाद कई बीमारियों से ग्रस्त हैं. रिम्स में उनका उपचार चल रहा है. तेजस्वी यादव ने अपने पिता को जल्द परोल पर रिहा करने करने के लिए परोक्ष रूप से अपील की है.  इसके अलावा आरजेडी की सहयोगी आरएलएसपी ने भी लालू यादव के स्वास्थ्य को लेकर चिंता जताई है. पार्टी के प्रधान महासचिव माधव आनंद ने कहा, ‘सबको पता है कि 60 साल के ऊपर के व्यक्ति को कोरोना से खतरा सबसे ज्यादा है. लालू यादव कई रोगों से भी पीड़ित हैं. इसके बावजूद उन्हें परोल नहीं मिल रहा है. यह अपने-आप में आश्चर्य की बात है.’
    कांग्रेस ने भी मानवीय आधार पर लालू यादव की रिहाई की मांग की है. न्यूज18 से बात करते हुए कांग्रेस के राज्यसभा सांसद अखिलेश प्रसाद सिंह ने कहा, ‘लालू यादव जिस अस्पताल में हैं वहां कोरोना संक्रमित मरीज हैं और वहां इस वायरस का खतरा बना हुआ है. इसके अलावा उनकी उम्र भी काफी ज्यादा है. लिहाजा, उन्हें मानवीय आधार पर परोल पर रिहा करना चाहिए.’

    हेमंत सोरेन सरकार में राजद भी भागीदार
    तेजस्वी यादव ने कहा था, ‘मैं चिंतित हूं क्योंकि 72 साल की उम्र होने और किडनी, हृदय रोग और मधुमेह जैसी बीमारियों से जूझने के कारण मेरे पिता को महामारी के दौरान और सुरक्षात्मक उपाए करने की जरूरत है.’ उन्होंने कहा, ‘जिनके परिवार हैं वही महसूस कर सकते हैं कि मैं क्या कर रहा हूं.’ झारखंड में हेमंत सोरेन के नेतृत्व वाली गठबंधन सरकार में राजद भी भागीदार है. लालू प्रसाद दिसंबर 2017 से जेल में हैं और चारा घोटाला मामले में 14 साल जेल की सजा काट रहे हैं.

    ये भी पढ़ें

    मोदी सरकार के फैसले से बिहार में राजनीति तेज, तेजस्वी ने CM से पूछे सवाल

    Tags: Corona patients, Hemant soren, Lalu Prasad Yadav, Nitish kumar, Tejashwi Yadav

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर