लाइव टीवी

नर्मदा की लहरों के साथ कदमताल करने वाले चित्रकार-साहित्यकार अमृतलाल बेगड़ नहीं रहे

News18 Madhya Pradesh
Updated: July 6, 2018, 6:58 PM IST
नर्मदा की लहरों के साथ कदमताल करने वाले चित्रकार-साहित्यकार अमृतलाल बेगड़ नहीं रहे
अमृतलाल बेगड़ (फाइल फोटो)

प्रसिद्ध चित्रकार, साहित्यकार और नर्मदा पुत्र के नाम से लोकप्रिय अमृतलाल बेगड़ का जबलपुर में निधन हो गया. उन्होंने नर्मदा की 4 हज़ार किमी की पदयात्रा की थी.

  • Share this:
प्रसिद्ध साहित्यकार, चित्रकार और नर्मदा समग्र के प्रमुख अमृतलाल बेगड़ नहीं रहे. उन्होंने जबलपुर में आख़िरी सांस ली. वो काफी समय से बीमार थे और कुछ दिन से वेंटिलेटर पर थे.

अमृतलाल बेगड़ उन चित्रकारों और साहित्यकारों में से थे जिन्होंने पर्यावरण संरक्षण के लिए उल्लेखनीय काम किया. नर्मदा की चार हज़ार किमी की पदयात्रा उन्होंने की और नर्मदा अंचल में फैली बेशुमार जैव विविधता से दुनिया को वाक़िफ कराया. 47 साल की उम्र में 1977 में उन्होंने नर्मदा की परिक्रमा करना शुरू किया था और 2009 तक ये क्रम जारी रहा. उनकी हिंदी की प्रसिद्ध किताब- नर्मदा की परिक्रमा है, जो उन्होंने नर्मदा परिक्रमा के दौरान हुए अनुभव के आधार पर लिखी थीं. नर्मदा के हर भाव और अनुभव को बेगड़ साहब ने अपने चित्रों और साहित्य में उतारा. उनकी गुजराती में 7, हिन्दी में 3 किताबें लिखीं. ‘सौंदर्य की नदी नर्मदा, ‘अमृतस्य नर्मदा’, ‘तीरे-तीरे नर्मदा’. साथ ही 8-10 पुस्तकें बाल साहित्य पर भी लिखीं. इन पुस्तकों के 5 भाषाओं में 3-3 संस्करण निकले. कुछ का विदेशी भाषाओं में भी अनुवाद हो चुका है.

अमृतलाल बेगड़ का जन्म जबलपुर में हुआ था. प्रारंभिक शिक्षा कच्छ में और फिर बाद में शांति निकेतन में विश्व भारती विवि से पढ़ाई की. लेकिन उनकी कर्मभूमि बना जबलपुर जहां वो ललित कला संस्थान में शिक्षक रहे.

हाल ही में माखनलाल चतुर्वेदी पत्रकारिता विश्वविद्यालय ने उन्हें डी- लिट की उपाधि से नवाज़ा था. जीवन भर उन्हें साहित्य -कला और लेखन के लिए दर्जनों पुरस्कार और सम्मान प्रदान किए गए. वो साहित्य अकादमी पुरस्कार से सम्मानित थे.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए भोपाल से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 6, 2018, 12:42 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...