Rajasthan: नये DGP की दौड़ में IPS मोहन लाल लाठर सबसे आगे, जानें खास वजह

पुलिस महानिदेशक की नियुक्ति संघ लोक सेवा आयोग के जरिये पूरी होगी.
पुलिस महानिदेशक की नियुक्ति संघ लोक सेवा आयोग के जरिये पूरी होगी.

राजस्थान के नये पुलिस महानिदेशक (Director General of Police) की दौड़ में 1987 बैच के आईपीएस मोहन लाल लाठर (IPS Mohan Lal Leather) सबसे आगे बताये जा रहे हैं.

  • Share this:
जयपुर. राजस्थान पुलिस महानिदेशक भूपेंद्र सिंह यादव के इस्तीफे (Resignation) के बाद अब पुलिस महकमे के नये मुखिया की तलाश तेज हो गई है. राजस्थान पुलिस के मुखिया के लिये संभावित 10 नामों में से 1987 बैच के आईपीएस मोहन लाल लाठर (IPS Mohan Lal Leather) का नाम दौड़ में सबसे आगे बताया जा रहा है. लाठर के दौड़ में आगे होने का कारण उनकी वरिष्ठता के साथ-साथ एक बड़ी वजह प्रदेश के बड़े जाट वोट बैंक (Jat vote bank) को खुश करना भी है. प्रदेश की अशोक गहलोत सरकार इसके जरिये जाट वोट बैंक को साधने की भी कोशिश करेगी.

महानिदेशक के चयन की प्रक्रिया
वर्तमान पुलिस महानिदेशक भूपेन्द्र सिंह यादव ने दो सप्ताह पहले ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को इस्तीफा भेज दिया था. वे अब केवल एक सप्ताह यानी 30 सितंबर तक ही प्रदेश पुलिस का मुखिया रहेंगे. नये पुलिस महानिदेशक की नियुक्ति संघ लोक सेवा आयोग के जरिये पूरी होगी. इसके लिये राज्य सरकार को नियमानुसार 30 साल की सेवा वाले ऐसे 10 वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों की सूची यूपीएससी को भेजनी होगी, जिनकी सर्विस अभी कम से कम छह माह शेष हो. यूपीएससी उन नामों पर चर्चा कर मापदंडों के आधार तीन का चयन करके इस पैनल को वापस राज्य सरकार को भेजेगी. उसके बाद सीएम अशोक गहलोत उन तीन नामों में से एक नाम फाइनल करेंगे.

Rajasthan: DGP भूपेन्द्र सिंह यादव ने दिया इस्तीफा, अब इन 10 नामों पर टिकी निगाहें
ये 10 आईपीएस हैं वरिष्ठता सूची में


1987 बैच - राजीव दासोत और मोहन लाल लाठर
1988 बैच - भगवान लाल सोनी और उत्कल रंजन साहू
1989 बैच - उमेश मिश्रा, नीना सिंह और राजीव शर्मा
1990 बैच - राजीव शर्मा, श्रीनिवास राव जंगा और रवि प्रकाश मेहरड़ा

यादव के लिये नई भूमिका की तैयारी
राज्य सरकार डीजीपी पद से त्यागपत्र देने वाले भूपेन्द्र सिंह के लिये भी नई भूमिका पर विचार-विमर्श कर रही है. माना जा रहा है कि सीएम अशोक गहलोत के पसंदीदा अधिकारी यादव को दूसरी कोई बड़ी भूमिका दी जा सकती है. उन्हें राजस्थान लोक सेवा आयोग का कमान दिये जाने की चर्चा है. उम्मीद जताई जा रही है कि यादव को आरपीएससी का अध्यक्ष बनाया जायेगा. डीजीपी यादव इससे पहले राजस्थान पुलिस विश्वविद्यालय के कुलपति और पुलिस अकादमी के निदेशक जैसे कई प्रमुख पदों को भी संभाल चुके हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज