Post Covid-19 care: खाना निगलने में दिक्कत हो तो आजमाएं ये 8 टिप्स

Post Covid-19 care: खाना निगलने में दिक्कत हो तो आजमाएं ये 8 टिप्स
अक्‍सर साधारण सर्दी-जुकाम के समय भी खाना खाने के दौरान गले में दर्द होता है.

न्यूरोलॉजिकल समस्याओं (Neurological Problems) , तालु से जुड़ी समस्याओं, फेरिंजियल और ऐसोफेगल ऑब्स्ट्रक्शन, वायरल (Viral) और बैक्टीरिया इंफेक्शन और क्रोनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (COPD) की वजह से निगलने में होने वाली कठिनाई को डिस्फेजिया (Dysphagia) कहते हैं.

  • Last Updated: August 10, 2020, 11:42 AM IST
  • Share this:


अगर आपको कभी साधारण सर्दी-जुकाम (Cold and Cough) के समय खाना खाने या पानी पीने के दौरान भी गले में दर्द (Throat pain)  का अहसास हुआ है तो आप समझ सकते हैं कि हम किस दिक्कत की बात कर रहे हैं. ब्रिटेन (Britain) की नेशनल हेल्थ सर्विस (NHS) के अनुसार न्यूरोलॉजिकल समस्याओं (Neurological Problems) , तालु से जुड़ी समस्याओं, फेरिंजियल और ऐसोफेगल ऑब्स्ट्रक्शन, वायरल (Viral) और बैक्टीरिया इंफेक्शन और क्रोनिक ऑब्सट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज (COPD) की वजह से निगलने में होने वाली कठिनाई को डिस्फेजिया (Dysphagia) कहते हैं.

डिस्फेजिया और कोविड-19 में क्या संबंध है
कई अन्य रिसर्च के साथ ही मई 2020 में यूरोपियन जनर्ल ऑफ न्यूरोलॉजी में छपी स्टडी में भी ओरोफेरीन्जियल डिस्फेजिया का कोविड-19 से संबंध पाया गया है. खासतौर पर अस्पताल में भर्ती होने वाले ऐसे मरीजों में जिनमें गंभीर न्यूमोनिया और एक्यूट रेस्पिरेटरी डिस्ट्रेस सिंड्रोम के लक्षण दिखते हैं. क्योंकि यह श्वसन तंत्र से जुड़ा इंफेक्शन है और फेफड़ों को नुकसान पहुंचाता है, इसलिए वेंटीलेटर सपोर्ट से सांस ले रहे कोविड 19 के मरीजों में डिस्फेजिया आम है.
अगर आप कोविड-19 से संक्रमित हो चुके हैं और अब इससे उबर रहे हैं तो आप समझ सकते हैं कि आपके लिए एक स्वस्थ और पोषण से परिपूर्ण डाइट कितनी जरूरी है, लेकिन अगर आपको भोजन और पानी निकलने में तकलीफ हो रही है तो डब्ल्यूएचओ ने इसके लिए कुछ जरूरी सुझाव दिए हैं -



1. सीधा बैठें – भले आप जितना मर्जी थका हुआ महसूस कर रहे हों, लेकिन इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि लेटकर कुछ भी ना खाएं, ना पिएं. अगर बैठने में तकलीफ हो तो तकियों और कुशन का सहारा लेकर बैठें और भोजन करें.

2. खाते ही ना लेटें – खाना खाने या पानी पीने के तुरंत बाद ना लेटें. खाना खाने के बाद कम के कम आधे घंटे तक सीधा बैठें, खड़े रहें या वॉक करें.

3. हल्का खाना खाएं – हल्का और गीला खाना खाएं. ध्यान रखें कि ठोस खाना छोटे-छोटे हिस्सों में कटा हो, ताकि निकलने में आसानी हो. फिर भी निगलने में दिक्कत होने पर उसे खाने योग्य पतला कर लें.

4. खाने पर ध्यान दें – जब आप कुछ भी खा या पी रहे हों तो अपना पूरा ध्यान उसी पर लगाएं. इससे भोजन के आपके गले में अटकने या खांसी आने की आशंका कम होगी.

5. धीरे-धीरे खाएं – जब भी कुछ खाएं या पिएं तो जल्दबाजी ना करें. खाने के छोटे-छोटे निवाले लें और छोटी-छोटी घूंट भरकर पानी या फ्लूड लें. निगलने से पहले खाने को अच्छी तरह से चबाएं और दो निवालों के बीच पानी की घूंट लेकर निगलने की प्रक्रिया को आसान बना सकते हैं.

6. एक-एक निवाला करके खाएं – मुंह में एक और निवाला डालने से पहले सुनिश्चित कर लें कि पहले वाला निवाला निगल लिया है. पानी को भी धीरे-धीरे घूंट-घूंट करके पिएं.

7. छोटे-छोटे निवाले लें – डिस्फेजिया की वजह से भोजन करना भी थकाऊ काम हो सकता है. इसलिए अपनी ऊर्जा को बचाने के लिए दिनभर में कई हिस्सों में खाएं.

8. खाने के बीच ब्रेक लें – अगर खाना खाने के दौरान आपको थकान होने लगे, सांस लेने में तकलीफ हो, गले में कुछ फंसा हुआ महसूस होने लगे तो कुछ देर के लिए रुक जाएं. परेशानी दूर होने के बाद कुछ देर में फिर खाना-पीना शुरू कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें - आपको रात को होती है खांसी? ये 12 टिप्स अपनाकर इससे पाएं छुटकारा

यह तो हम पहले ही बता चुके हैं कि किसी भी तरह के इंफेक्शन के बाद उससे उबरने के लिए उचित पोषक आहार लेना काफी अहमियत रखता है. निगलने में दिक्कत हो तो यह जरूरी पोषण लेना दुष्कर हो सकता है. शांत रहें और खुद को हाइड्रेटेड रखें. अपने दांत साफ रखें और गले व मुंह को साफ रखने के लिए गरारे करें.

अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, गले में दर्द के प्रकार, लक्षण, कारण, परहेज, इलाद और दवा पढ़ें।

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज