सतना में कौन पी रहा है मासूमों का खून! 102 में से 98 यूनिट ब्लड ग़ायब

महिला बाल-विकास विभाग ने जुलाई में पूरे ज़िले में दस्तक अभियान चलाकर 289 कुपोषित और कमज़ोर बच्चों की पहचान की थी.इन बच्चों को 9 एनआरसी में भर्ती कराया गया था.

Shivendra Singh Baghel | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 30, 2019, 6:45 PM IST
सतना में कौन पी रहा है मासूमों का खून! 102 में से 98 यूनिट ब्लड ग़ायब
सतना में कौन चुरा रहा है खून
Shivendra Singh Baghel
Shivendra Singh Baghel | News18 Madhya Pradesh
Updated: August 30, 2019, 6:45 PM IST
सतना ज़िला अस्पताल (satna district hospital)में क्या खून का सौदा हो रहा है. यहां दस्तक अभियान के तहत कुपोषित बच्चों की पहचान कर उन्हें एनआरसी में भर्ती कराया गया था. उनके लिए ब्लड बैंक से 102 यूनिट खून भेजा गया. लेकिन अस्पताल तक सिर्फ 4 यूनिट ब्लड(blood) पहुंचा. रास्ते में 98 यूनिट ब्लड गायब किया जा चुका था.

कुपोषित बच्चों के लिए था ब्लड-महिला बाल-विकास विभाग ने जुलाई में पूरे ज़िले में दस्तक अभियान चलाकर 289 कुपोषित और कमज़ोर बच्चों की पहचान की थी.इन बच्चों को 9 एनआरसी में भर्ती कराया गया था. उनमें से कई मासूमों को ब्लड की ज़रूरत थी.ब्लड बैंक से इन मासूमों के लिए 102 यूनिट ब्लड जारी किया गया. मगर एनआरसी तक सिर्फ 4 यूनिट ब्लड ही पहुंचा. बाक़ी 98 यूनिट कहां गायब हो गया इसका जवाब कोई नहीं दे रहा.आखिरकार मासूमों के लिए निकला खून कौन पी गया. सूत्रों की मानें तो कुपोषित बच्चों के साथ-साथ कैंसर,थैलिसीमिया जैसे गंभीर बीमारी से पीड़ित मरीजों की आड़ में  खून का खेल खेला जा रहा.

कलेक्शन-डिस्ट्रीब्यूशन में भी धांधली- महिला बाल विकास विभाग ने एनआरसी में भर्ती इन बच्चों के लिए पौष्टिक आहार के साथ इलाज और ब्लड चढ़ाने की व्यवस्था की थी.ब्लड कैंप लगाकर खून इकट्ठा किया गया था. ये भी पता चला कि ब्लड कलेक्शन और वितरण में भी बड़ा गोलमाल किया जा रहा है. 6 महीने में 12  रक्त दान शिविर लगाकर 542 यूनिट ब्लड इकट्ठा किया गया. लेकिन स्टॉक में 576 यूनिट ब्लड डिस्ट्रीब्यूशन दिखाया गया. इकट्ठा किए गए और बांटे गए ब्लड में 35 यूनिट का अंतर  है..

दलालों का जाल-अब कलेक्टर ने महिला बाल विकास अधिकारी और जिला स्वास्थ्य अधिकारी के नेतृत्व में जांच टीम बनाने का एलान किया है. दोषी लोगों पर कार्रवाई की जाएगी. सतना जिला अस्पताल में ब्लड बैंक में खून के खेल का ये पहला मामला नहीं है.यहां कई दलाल पकड़े जा चुके हैं. इनमें से कई पेशेवर और कई नशेड़ी हैं. ये दलाल जरूरत मंदों को ब्लड मुहैया कराने के एवज में मनमाने पैसे वसूलते हैं.

ये भी पढ़ें-PCC चीफ के लिए गोविंद राजपूत बोले- मुझे सिंधिया पसंद हैं...

  • कंटेंनजेंसी से स्थायी हुए कर्मचारी 62 साल में होंगे रिटायर

  • Loading...

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए सतना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 30, 2019, 6:45 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...