फेसबुक पर डाला लड़की का फोन नंबर, आने लगे अश्लील कॉल

किसी ने उसकी फर्जी फेसबुक आइडी बनाई है और उसे अश्लील कमेंट किए जा रहे हैं. यही नहीं उसका मोबाइल नंबर भी फेसबुक पर डाल दिया गया है. इसके बाद उसके पास कई लोगों की अश्लील कॉल भी आ रही हैं.

News18 Uttar Pradesh
Updated: August 31, 2018, 8:59 PM IST
News18 Uttar Pradesh
Updated: August 31, 2018, 8:59 PM IST
फेसबुक पर लड़की की फर्जी आईडी बनाकर उसका मोबाइल नंबर भी डाल दिया गया. इसके बाद इसी फेसबुक आईडी से अश्लील कमेंट भी किए जाने लगे. जिससे सैंकड़ों लोगों के लड़के के नंबर पर आने लगे. कॉल करने वाले लोग लड़की से अश्लील बातें करते थे. जिससे लड़की मानसिक रूप से परेशान हो गई. लड़की ने पुलिस के पास मुकदमा दर्ज कराया. जिसके बाद बाराबंकी पुलिस ने साइबर सेल की मदद से इस केस का जो राजफाश किया, वह हैरान करने वाला था.

मामला बाराबंकी का है, जहां एक युवती ने मुकदमा दर्ज कराया था कि किसी ने उसकी फर्जी फेसबुक आईडी बनाई है और उससे अश्लील कमेंट और पोस्ट किए जा रहे हैं. यही नहीं उसका मोबाइल नंबर भी फेसबुक पर डाल दिया गया है. इसके बाद उसके पास कई लोगों की अश्लील कॉल भी आ रही हैं. मामले की शिकायत पर पुलिस अधीक्षक वीपी श्रीवास्तव ने इस मामले की जांच में साइबर सेल को भी लगाया.

यह भी पढ़ें- रेप पीड़िता सुसाइड केसः एसपी ने थानाध्यक्ष समेत दो दरोगाओं को किया निलंबित

पुलिस ने साइबर सेल की मदद से पहले फर्जी फेसबुक आईडी को बंद कराया और फिर उसका पता, मोबाइल नंबर पता किया. इसके साथ ही साइबर सेल और पुलिस की टीम ने फेसबुक कंपनी से फर्जी आईडी डिटेल भी निकलवाई. जिससे पता चला कि यह फर्जी फेसबुक आईडी बनाने वाला रामसनेहीघाट कोतवाली क्षेत्र के ग्राम उमरापुर का रहने वाला धर्मराज है. जिसे पुलिस ने उसके गांव से ही गिरफ्तार कर लिया.

यह भी पढ़ें- इस्लाम से खारिज किए गए शिया वक्फ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिजवी

वहीं इस पूरी साजिश का पर्दाफाश करते हुए बाराबंकी के पुलिस अधीक्षक वीपी श्रीवास्तव ने बताया कि आज के समय में सोशल मीडिया का कई मामलों में अच्छे काम के लिए भी प्रयोग किया जाता है तो कई लोग इसका गलत इस्तेमाल भी करते हैं. ऐसा ही एक मामला नगर कोतवाली में सामने आया था, जहां 27 अप्रैल 2018 को एक लड़की ने केस दर्ज कराया था कि उसकी फर्जी फेसबुक आईडी बनाकर उसे बदनाम करने की कोशिश की जा रही है. पुलिस ने साइबर सेल की मदद से इसकी तफ्तीश शुरू की.

यह भी पढ़ें- मुजफ्फरनगर में सेक्युलर मोर्चा की पहली जनसभा में पहुंचे शिवपाल यादव

पुलिस ने सबसे पहले उस फेसबुक आईडी को डीएक्टिवेट कराया, जिससे बदमाश उस लड़की को बदनाम कर रहे थे. उसके बाद उसके आईपी एड्रेस की मदद से अपराधी का मोबाइल नंबर पता किया गया. मोबाइल नंबर ट्रैक करने पर पता चला कि ये अपराधी धर्मराज रामसनेघाट का रहने वाला है. पुलिस ने मौके पर पहुंचकर उसे गिरफ्तार किया. इस अपराधी से पूछताछ में पता चला कि मुंबई में जहां ये काम करता था, उसका मालिक पीड़ित लड़की का पड़ोसी था. उसी के फोन से लड़की का फोटो मिला. वहीं से फोटो निकालकर मोबाइल नंबर के साथ फेसबुक अपराधी ने लड़की को बदनाम करना शुरू कर दिया. आरोपी धर्मराज को गिरफ्तार करके जेल भेजा जा रहा है.
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर