PPF अकाउंट से आप कमा सकते हैं 1 करोड़ रुपये, जानिए क्या करना होगा?

कई छोटी बचत योजनाओं के मुकाबले इस खाते से बढ़िया रिटर्न हासिल किया जा सकता है.

कई छोटी बचत योजनाओं के मुकाबले इस खाते से बढ़िया रिटर्न हासिल किया जा सकता है.

PPF Crorepati Calculator: पैसे कमाने भला किसे पसंद नहीं है. हर कोई चाहता है उसके पास बढ़िया बैंक बैलेंस हो. नौकरीपेशा लोगों के लिए करोड़पति बनना तो किसी सपने से कम नहीं है. हालांकि, आपका ये ख्वाब पब्लिक प्रोविडेंट फंड अकाउंट (PPF) से पूरा हो सकता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 27, 2021, 11:51 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पैसे कमाने भला किसे पसंद नहीं है. हर कोई चाहता है उसके पास बढ़िया बैंक बैलेंस हो. नौकरीपेशा लोगों के लिए करोड़पति बनना (How to be a crorepati) तो किसी सपने से कम नहीं है. हालांकि, आपका ये ख्वाब पब्लिक प्रोविडेंट फंड अकाउंट (PPF) से पूरा हो सकता है. इसमें लंबे समय के लिए निवेश से आप रिटायरमेंट तक आराम से 1 करोड़ रुपए तक का फंड बना सकते हैं. अगर आप कोरोना काल (corona crisis) में निवेश करके मोटी कमाई (Investment and Return) करने की सोच रहे हैं तो आप PPF में निवेश कर सकते हैं. पब्लिक प्रॉविडेंट फंड या PPF एक सरकार समर्थित छोटी बचत योजना है. यह 100 प्रतिशत जोखिम मुक्त है. यानी कि यहां निवेश करने पर आपको नुकसान की कोई संभावना नहीं है. तो आइए जानते हैं कैसे करें इस स्कीम में निवेश और क्या है पूरी प्रक्रिया?

जानिए क्या है ये स्कीम

पब्लिक प्रोविडेंट फंड यानी PPF लंबे समय तक निवेश करने वाली एक पॉपुलर स्कीम है. लंबी अवधि के निवेश के लिए लोग अपने पैसों को कई जगह निवेश करते हैं. बेहतर निवेश के जरिए अच्छा रिटर्न हासिल किया जा सकता है. इसी तरह से लोग PPF को भी काफी तवज्जो देते हैं. इसके जरिए लोगों को अच्छा रिटर्न मिलता है. PPF पर 7.1 फीसदी सालाना कंपाउंडिंग के हिसाब से ब्याज मिल रहा है, जो आगे भी जारी रहेगा. इसमें रिटर्न पूरी तरह से टैक्स फ्री है. इसलिए मैच्योरिटी राशि और इस पर मिलने वाला ब्याज किसी भी चीज में टैक्स नहीं देना होता है.

ये भी पढ़ें-  RBI की चेतावनी: देशभर में बढ़ सकती है महंगाई! सप्लाई चेन होगी प्रभावित, बताई ये बड़ी वजह
यहां मिलता है सबसे बढ़िया रिटर्न

इस अकाउंट में एक साल में अधिकतम 1.5 लाख रुपये और हर महीने अधिकतम 12,500 रुपये का निवेश किया जा सकता है. FD के अलावा कई छोटी बचत योजनाओं के मुकाबले इस खाते से बढ़िया रिटर्न हासिल किया जा सकता है. साथ ही इस स्कीम में मिलने वाले रिटर्न की गांरटी होती है.पीपीएफ की मैच्योरिटी अवधि 15 वर्ष है, लेकिन आप इसे 5-5 साल की अवधि में आगे बढ़ा सकते हैं. इसके विस्तार के लिए फॉर्म-H जमा करना होगा. इसमें एक साल में 1.5 लाख रुपए तक जमा कर सकते हैं. इसमें 15 साल का लॉक-इन पीरियड होता है. मतलब इन 15 सालों में निवेशक रकम निकाल नहीं सकता.

ऐसे जमा होगा 1 करोड़ रुपये का फंड



अगर हमें इस स्कीम से एक करोड़ रुपये इकट्ठा करना है तो हमें इस निवेश की अवधि 25 साल करनी होगी. तब तक 1.5 लाख रुपये सालाना जमा के हिसाब से 37,50,000 रुपये जमा हो चुके होंगे, इस पर सालाना 7.1 फीसदी की दर से 65,58,012 रुपये का ब्याज बनेगा. वहीं मैच्योरिटी अमाउंट तब तक 1,03,08,012 रुपये हो चुकी होगी. बता दें कि पीपीएफ खाते की मैच्योरिटी 15 साल की होती है. 15 साल बात इस खाते को अगर आगे बढ़ाना है तो पांच-पांच साल के हिसाब से इस खाते को आगे के सालों के लिए बढ़ाया जा सकता है.

ये भी पढ़ें- Bank Privatisation से ग्राहकों को फायदा होगा या नहीं? RBI ने बनाया ये नया प्लान..

क्यों है बेहतर विकल्प

-- ज्यादातर बैंक के बचत खातों पर अब 3 से 3.5 फीसदी ही सालाना ब्याज. हालांकि कुछ बैंक​ बचत खाते पर 6 फीसदी के आस पास भी ब्याज देते हैं.

-- 5 साल की बैंक एफडी पर 5.5 से 6.25 फीसदी के आस पास ब्याज.

-- अनिश्चितता के हालात में भी तय किए गए ब्याज के अनुसार ही रिटर्न मिलेगा. जबकि कैपिटल मार्केट में निवेश के डूबने का खतरा रहता है.

-- म्यूचुअल फंड में पिछले 1 साल के दौरान इक्विटी सेग्मेंट के हर कटेगिरी में 20 फीसदी से ज्यादा गिरावट.

-- इक्विटी मा​र्केट में 1 साल में 23 फीसदी की गिरावट.

-- डाकघर में जमा हर एक पैसे पर सुरक्षा की गारंटी. जबकि बैंकों में सिर्फ 5 लाख तक की ही रकम पर बीमा मिलता है. यानी बैंक डूब जाएं तो आपकी सिर्फ 5 लाख की रकम ही सुरक्षित रहेगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज